कोलकाता मूक नाट्य महोत्सव में बिहार का प्रभावकारी प्रतिनिधित्व

कोलकाता/दाउदनगरर/हसपुरा (औरंगाबाद)-सोनमाटी समाचार। मूक नाट्य महोत्सव के आयोजक पद्मश्री राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त रंगकर्मी निरंजन गोस्वामी ने 10वें मूक नाट्य महोत्सव के अवसर पर कहा कि परफार्मिंग आर्ट की मूक नाट्य प्रस्तुति अंतराष्ट्रीय स्तर पर पसंद की जाती है। यह अभिनय की कठिन विधा है, जिसमें दर्शकों तक भाव एवं प्रभाव संप्रेषण के लिए रंगकर्मियों को कड़ा अभ्यास करना और अपने को दक्षता के साथ साधना होता है।

धर्मवीर फिल्म एंड टीवी प्रोडक्शन के सिनेमेटोग्राफर एवं नाट्य भारती के रंगकर्मी रणवीर भारती ने इंडियन माइम थियेटर (साल्ट लेक, कोलकाता) द्वारा 24 से 30 मार्च तक आयोजित 10वें नेशनल माइम फेस्टिवल (मूक नाट्य महोत्सव) में बिहार का प्रतिनिधित्व मूक नाटक डेस्ट्रॉयर ऑफ नेचर के प्रदर्शन से किया।
निरंजन गोस्वामी ने बिहार के रंगकर्मी रणवीर भारती की प्रस्तुति की चर्चा करते हुए यह कहा कि श्री भारती मूक अभिनय के सफल कलाकार हैं और इनका लेखन-निर्देशन विषय वस्तु के अनुरूप प्रभावकारी है। पहले भी इनके द्वारा प्रस्तुत मूक नाटकों की प्रस्तुति बेहतर रही है।

मानव द्वारा प्रकृति के विनाश की कथा है डेस्ट्रॉयर ऑफ नेचर
नाटक डेस्ट्रॉयर ऑफ नेचर का कथानक मानव द्वारा अपने स्वार्थ में प्रकृति के विनाश और जानवरों, जंगल, खनिज पदार्थ के अनियंक्षित दोहन पर आधारित है। इस नाटक के लेखक-निर्देशक व मुख्य अभिनेता रणवीर भारती और सह अभिनेता की भूमिका में नेपाल के संतोषलाल दास और मुजफ्फरपुर के विवेक शाह थे। लाइट पुष्पेंद्र कुमार वर्मा (मध्य प्रदेश), पाश्र्व संगीत पिंकू चौबे (दिल्ली) और प्रॉप्स सूरज कुमार (पश्चिम बंगाल) का था।
मूक नाटक डेस्ट्रॉयर ऑफ नेचर के सफल मंचन पर नाट्य भारती के निर्देशक धर्मवीर भारती, विद्या निकेतन ग्रुप ऑफ स्कूल के सीईओ आनंद प्रकाश, वरिष्ठ रंगकर्मी आफ़ताब राणा, धर्मवीर फिल्म एंड टीवी प्रोडक्शन की एमडी रसना वर्मा डॉली ने बधाई दी है।

(रिपोर्ट एवं तस्वीर : उपेन्द्र कश्यप,  शंभुशरण सत्यार्थी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *