राष्ट्र के प्रति सेवा, समर्पण और त्याग की त्रिमूर्ति थे डा. राजेन्द्र प्रसाद

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-कार्यालय प्रतिनिधि। एनिकट स्थित अनुमंडल विधिज्ञ संघ के सभाकक्ष में भारत के प्रथम राष्ट्रपति एवं सुप्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर नवजीवन ट्रस्ट की ओर से समाज के वंचित तबके के लोगों के बीच कंबल वितरण भी किया गया। समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकरी हिमांशु पांडेय ने कहा कि प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद राष्ट्र के प्रति सेवा, समर्पण और त्याग की त्रिमूर्ति थे। अपने समर्पïïण-सेवा के कारण ही वह स्वाधीनता आंदोलन के दौरान देशरत्न के नाम से लोकप्रिय हो गए थे। कहा कि विधिज्ञ संघ की ओर से कम्बल वितरण का आयोजन समाज के वंचित वर्ग के प्रति उसकी सामूहिक चिंता है।
प्रकांड विद्वता के साथ सादगी के दुर्लभ उदाहरण थे देशरत्न
न्यायिक दंडाधिकारी विवेक सिंह और न्यायिक दंडाधिकारी चंदन कुमार वर्मा ने कहा, इस समारोह की यह बात महत्वपूर्ण है कि राष्ट्रीय क्षितिज के निर्विवाद अधिवक्ता का दूसरे अधिवक्ताओं द्वारा सम्मान किया गया। डा. राजेन्द्र प्रसाद एक सदी पहले विधि पीएचडी करने वाले ऐसे प्रतिष्ठित वकील थे, जिन पर महात्मा गांधी ने चंपारण में अंग्रेज निलहों के अत्याचार के विरुद्ध वैधानिक लड़ाई के साक्ष्य जुटाने की जिम्मेदारी सौंपी थी। दोनों दंडाधिकारियों ने अपने-अपने वक्तव्यों में डा. राजेन्द्र प्रसाद की प्रकांड विद्वता, दुर्लभ सादगी और देश-समाज के लिए त्याग के अप्रतीम उदाहरण बताया।
जात-बिरादरी के भेदभाव से ऊपर थे डा. राजेन्द्र प्रसाद
कार्यक्रम की अध्यक्षता उमाशंकर पांडेय ने की और संचालन महासचिव मिथिलेश कुमार सिन्हा ने किया। उमाशंकर पांडेय ने कहा कि जयंती इन दिनों वोट बैंक के लिए जातीय आधार पर मनाई जाने लगी है। जबकि समाज के वास्तविक अल्पसंख्यक मगर बौद्धिक बिरादरी से आने वाले डा. राजेन्द्र प्रसाद जात-बिरादरी के भेदभाव से ऊपर थे। कार्यक्रम में डा. संजय सिंह, वरिष्ठ अधिवक्ता नागेन्द्र पांडेय, मिथिलाशरण राय, मनीषा दुबे, अन्नू कुमारी आदि उपस्थित थे।

( रिपोर्ट व तस्वीर : निशांत राज)

 

उभरते हुए शतरंज खिलाड़ी बिट्टू कुमार को प्रोत्साहन सम्मान

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-सोनमाटी संवाददाता। डेहरी चेस क्लब के स्टेशन रोड स्थित शंकरलाज कार्यालय में संक्षिप्त सादा समारोह में शतरंज के उभरते तरुण खिलाड़ी बिट्टू कुमार को क्लब की ओर से प्रोत्साहन सम्मान दिया गया। डेहरी चेस क्लब की ओर से उन्हें क्लब के उपाध्यक्ष प्रो. रणधीर कुमार सिन्हा एवं उपाध्यक्ष गोपालस्वरूप तिवारी (अधिवक्ता) ने संयुक्त रूप से शील्ड प्रदान किया।
शतरंज के प्रचार-प्रसार के लिए प्रतिबद्ध संस्था डेहरी चेस क्लब प्रति वर्ष एक उदीयमान शतरंज खिलाड़ी को पुरस्कृत कर प्रोत्साहित करने का कार्य करती है। बिट्टू कुमार ने डेहरी चेस क्लब की ओर से पिछले महीने आयोजित फूलकुमारी देवी जगदीश प्रसाद चौरसिया स्मृति अंडर-19 शतरंज प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन किया था। कार्यक्रम में डेहरी चेस क्लब के संस्थापक संयोजक दयानिधि श्रीवास्तव उर्फ भरत लाल, निर्देशक स्वयंप्रकाश मिश्र सुमंत, सचिव नंद कुमार सिंह और अन्य पदाधिकारी व शतरंज खिलाड़ी सुरेन्द्र कुमार यादव, आलोक कुमार, सत्यनारायण सोनी, शंकर कुमार, धनञ्जय कुमार सिंह, आनंद कुमार पाण्डेय आदि उपस्थित थे।

(रिपोर्ट व तस्वीर : नंदकुमार सिंह)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *