मो. इलियास हुसैन : जनतंत्र को रखा ठेंगे पर, सबको समझा रियाया

पटना/डेहरी-आन-सोन/सासाराम (विशेष प्रतिनिधि, सोनमाटी टीम)। बिहार में शासन चलाने के सामंतशाही अंदाज का करीब दो दशक पुराना एक मंजर देखिए।

Read more

जयहिन्द-2 : तब बैलगाड़ी के जरिये होता था सड़कों पर फिल्मों का प्रचार

=o स्मृतियों का झरोखा : डेहरी-आन-सोन o= बिहार के डेहरी-आन-सोन में सत्तर साल से तब के अकबरपुर-कोईलवर रोड के पश्चिम

Read more

गांधी : बिहार में हुआ ‘महात्माÓ अवतार, किया आजीवन अधनंगा रहने का फैसला

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष पर विशेष संयोजन   गांधी : बिहार में हुआ ‘महात्माÓ अवतार, किया आजीवन

Read more

हरिवंश : निराशापूर्ण राजनीति के दौर में उम्मीद की किरण

वरिष्ठ संपादक रहे राज्यसभा सदस्य हरिवंश नारायण सिंह का राज्यसभा के उपाध्यक्ष (डिप्टी स्पीकर) बनना निराशापूर्ण राजनीति के मौजूदा दौर

Read more

अनाम सिपाहियों का दस्तावेज : हमारे शिल्पकार

अनाम सिपाहियों का दस्तावेज : हमारे शिल्पकार हसपुरा(औरंगाबाद)।  दुनिया के सामाजिक बदलाव का इतिहास बतलाता है कि बदलाव से उपजी हुवी

Read more

नीलाभ मिश्र पर विशेष : ….और तुम्ही सो गए दास्तां कहते-कहते!

नवभारत टाइम्स (पटना) से आउटलुक (दिल्ली) और नेशनल हेराल्ड तक, पत्रकारिता में राज्य से राष्ट्रीय क्षितिज तक नीलाभ मिश्र की

Read more

1. बीसवीं सदी में सोनघाटी की रंगयात्रा (किस्त-1)

-वर्तमान बहुचर्चित सांस्कृतिक संस्था अकस (अभिनव कला संगम) का आरंभिक नाम था कला संगम -1988 में ठाकुर कुंजविहारी सिन्हा की

Read more