सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

राहुल ही होंगे कांग्रेस से 2019 के प्रधानमंत्री पद के दावेदार

बेंगलुरू (विशेष प्रतिनिधि, सोनमाटी समाचार)। राहुल गांधी की कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में ताजपोशी से यह तो अंदाजा लगाया जा रहा था कि राहुल गांधी अगले प्रधानमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं, पर यह पूरी तरह स्पष्ट भी नहीं था और लोगों में संशय बना हुआ था। इस संशय को खुद राहुल गांधी ने दूर कर दिया है। राहुल गांधी ने बंगलुरू में चुनाव प्रचार के दौरान पत्रकारों से सवाल-जवाब के क्रम में यह स्पष्ट स्वीकारोक्ति कर दी है। जब उनसे पूछा गया कि अगर 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस बड़ी पार्टी बनकर उभरती है तो क्या वह प्रधानमंत्री बनेंंगे, तब उन्होंने साफ तौर पर हामी भरी।
कर्नाटक में स्पष्ट बहुमत की उम्मीद नहीं, जेडीएस मजबूत तालमेल की स्थिति में
कर्नाटक में 12 मई को चुनाव होने वाला है और 15 मई को परिणाम आएगा। कर्नाटक में विधानसभा में 224 सीटें हैं और किसी भी पार्टी को सरकार बनाने के लिए 113 सीट चाहिए। चुनावी युद्ध में जारी शह-मात के खेल में किसकी ताजपोशी होगी, यह बताना कठिन है? मगर यह माना जा रहा है कि अगर बीजेपी या कांग्रेस के साथ जेडीएस का तालमेल हो जाता है तो दोनों में से किसी के नेतृत्व में कर्नाटक में सरकार बन सकती है। यह भी माना जा रहा है कि कर्नाटक में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने जा रहा है। इस स्थिति में तालमेल करने के लिए उपयुक्त पार्टी के रूप में जेडीएस ही होगी।

बसपा ने चौंकाने वाला फैसला, सपा ने आक्रामक रणनीति अपनाई
उधर, बहुजन समाज पार्टी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जेडीएस के साथ हाथ मिलाकर चौंकाने वाला राजनीतिक कदम उठाया तो इस फैसले ने समाजवादी पार्टी को हैरान कर दिया था। इसके बाद समाजवादी पार्टी ने यह फैसला किया कि वह अकेले ही आक्रामक तेवर में चुनाव लड़ेगी और राष्ट्रीय स्तर पर जोरदार मौजूदगी दर्ज कराएगी। समाजवादी पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले कर्नाटक में पार्टी को मजबूत करने की रणनीति के तहत 31 उम्मीदवार उतारें हैं, जो यादव पिछड़ा वर्ग के हैं और अधिसंख्य मध्य कर्नाटक व उत्तरी कर्नाटक के हैं। समाजवादी पार्टी ने बंजारा वर्ग के आधे दर्जन उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है, जो मूलत: राजस्थान के रहने वाले हैं लेकिन वे कर्नाटक में आकर बस गए हैं।

 राहुल ने कहा, नई एकता बने तो लोकसभा चुनाव परिणाम 2014 की तरह नहीं

 कर्नाटक में कांग्रेस को सत्ता में वापस लाने के लिए राहुल गांधी ने भाजपा के विरुद्ध आक्रामक रणनीति अपनाई है। उनका मानना है कि कई राज्यों में निर्धारित रणनीति के तहत कार्य हो और नई एकता बने तो 2019 का लोकसभा चुनाव परिणाम 2014 की तरह नहीं होगा। कांग्रेस बिहार में सियासी समीकरण के बदलाव का आगाज कर चुकी है, जिसके तहत उसने खुलेआम अपने पूर्ववर्ती नेताओं से कांग्रेस के हाथ को मजबूत करने की अपील की है। कांग्रेस 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अपने को बिहार में एक बड़े खिलाड़ी के तौर पर मतदाताओं के सामने प्रस्तुत होना चाहती है। बिहार में कांग्रेस की निगाह उन नेताओं पर है, जो कांग्रेस छोड़कर दूसरे दलों में गए, पर वहां अपने को समायोजित नहीं कर पा रहे हैं और भाजपा के बागी तेवर वाले नेताओं पर भी उसकी निगाह है।

बहरहाल, राहुल गांधी की प्रधानमंत्री पद के दावेदार होने की स्पष्ट स्वीकारोक्ति  कांग्रेस और खासकर राहुल गांधी के संदर्भ में विशेष अहमियत रखता है। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष और राहुल गांधी की मां सोनिया गांधी ने 2004 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की अगुआई करने और उसे अप्रत्याशित जीत दिलाने के बाद जिस तरह से प्रधानमंत्री पद डॉ. मनमोहन सिंह को सौंप दिया था। राहुल गांधी भी  मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री पद स्वीकारने में हिचकते रहे।  उनके पार्टी की कमान संभालने को लेकर भी कांग्रेस में लंबे समय तक कशमकश चलती रही। मौजूदा राजनीतिक हालात में ये तमाम मायने कांग्रेस की राजनीति को कमजोर कर रहे थे। बीजेपी को यह कहने का मौका मिल रहा था कि राहुल गांधी राजनीति में कच्चे हैं। यह असमंजस गैर कांग्रेस-गैर बीजेपी पार्टियों का तीसरा मोर्चा बनाने की ताकत भी दे रहा था। इस स्पष्ट बयान से राहुल ने कार्यकर्ताओं के मन की दुविधा दूर की है, कांग्रेस की राजनीति को ताकत दि है और विरोधियों को भी संदेश दिया है कि वे उन्हें हल्के में लेने की गलती न करें।

(डेहरी-आन-सोन में आउटपुट निशांत राज, बेंगलूरू में पब्लिक सोर्स राहुल अभिषेक)

अपहृत बच्ची बरामद

पूर्णिया (बिहार)-सोनमाटी समाचार। पूर्णिया जिले के गुलाबबाग के सनौली चौक निवासी व्यापारी सुरेन्द्र बिनाकिया की अपहृत 8 साल की बच्ची को पुलिस ने बिहार-पश्चिम बंगाल की सीमा के निकट हटवार से बरामद कर लिया। इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूर्णिया के पुलिस अधीक्षक विशाल शर्मा के अनुसार, गिरफतार होने वालों में बलराम, मोहम्मद सहराब उर्फ चांद, मोहम्मद अफजल और मोहम्मद रुस्तम उर्फ सद्दाम शामिल हैं। वारदात में प्रयोग किए गए दो वाहनों और दो हथियारों को भी जब्त किया गया है। सभी गिरफ्तार आरोपी पूर्णिया सदर थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं।
8 साल की नव्या सोमवार को स्कूल बस से उतरकर घर की तरफ जा रही थी। पीछे से आई एक कार में सवार अपहरणकर्ताओं ने बच्ची को उठाकर कार में बैठा लिया। अपहर्ताओं ने जिस सनौली चौक पर घटना को अंजाम दिया, वह भीड़-भाड़ वाला इलाका है, लेकिन किसी ने घटना का विरोध नहीं किया।

डेहरी-आन-सोन होगा अतिक्रमण मुक्त

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-सोनमाटी संवाददाता। एसडीएम गौतम कुमार के अनुसार, शहर अतिक्रमण मुक्त होगा और अतिक्रमण करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के लिए टीम का गठन किया गया है, जिसमें डीसीएलआर, बीडीओ, सीओ, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी, नगर थानाध्यक्ष हैं। टीम मंगलवार और शुक्रवार को मुख्य बाजार से अंबेडकर चौक, स्टेशन रोड, पाली रोड, सिनेमा रोड, तार बंगला आदि स्थानों तक भ्रमण कर अतिक्रमण हटाने का कार्य पुलिस दल द्वारा करेंगी। मुख्य बाजार में सड़क व डिवाइडर के किनारे ठेला या दुकान नहीं लगाने दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!