सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

हाईकोर्ट के जज करेंगे अनुमंडलीय कामकाज का निरीक्षण, देखेंगे प्रस्तावित विधिज्ञ संघ भवन का स्थल

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-विशेष प्रतिनिधि। पटना हाईकोर्ट के जज और रोहतास जिला के निरीक्षी न्यायाधीश विनोद कुमार सिन्हा अपने चार दिवसीय दौरे के क्रम में अंतिम दिन डिहरी अनुमंडल न्यायालय के कामकाज का निरीक्षण करेंगे और अनुमंडल विधिज्ञ संघ के भवन-स्थल का भी अवलोकन करेंगे। इसके बाद वह बिक्रमगंज अनुमंडल विधिज्ञ संघ का निरीक्षण करने के लिए रवाना हो जाएंगे। अपने चार दिवसीय दौर में इससे पहले न्यायाधीश श्री सिन्हा ने रोहतास जिला न्यायालय के विभिन्न संभागों का भी निरीक्षण किया और रोहतास जिला विधिज्ञ संघ के सदस्यों से आयोजित समारोह में मुखातिब हुए। उन्होंने जहां जिला स्तर के न्यायाधीशों को कोर्ट पर मुकदमों का बोझ कम करने की दिशा में सक्रिय पहल करने का निर्देश दिया, वहीं जिला विधिज्ञ संघ के स्वागत-कार्यक्रम में अधिवक्ताओं से त्वरित और सुलभ न्याय के लिए गति तेज करने की अपील की।
डिहरी अनुमंडल विधिज्ञ संघ के अध्यक्ष उमाशंकर पांडेय ने बताया कि पटना उच्च न्यायालय के जज और रोहतास जिला के निरीक्षी न्यायाधीश विनोद कुमार सिन्हा का विधिज्ञ संघ की ओर से स्वागत किया जाएगा, जो यहां अनुमंडल न्यायालय के कामकाज का निरीक्षण करने पहुंचेंगे। निरीक्षी न्यायाधीश को वह भूमि-स्थल दिखाया जाएगा और उसकी भौगोलिक वस्तुस्थिति से अवगत कराया जाएगा, जहां अनुमंडल न्यायालय परिसर के साथ अनुमंडल विधिज्ञ संघ के परिसर का भी निर्माण होना है।

 

समय पर आएं, करें काम पूरा और क्लीन सीटी, ग्रीन सीटी पर दें जोर

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-कार्यालय प्रतिनिधि। डेहरी-डालमियानगर परिषद के नए कार्यपालक पदाधिकारी सुशील कुमार ने परिषद कार्यालय में कार्यभार ग्रहण करने के बाद परिषद कार्यालय के अधिकारियों-कर्मचारियों की बैठक में यह संदेश दिया कि सभी स्टाफ यह सुनिश्चित कर लें कि उन्हें समय पर कार्यालय में आना और समय पर कार्यनिष्पादन करना है। उन्होंने कहा कि उनका, उनकी इस नगर परिषद की टीम का जोर क्लीन सीटी और ग्रीन सीटी पर होगा और इस दिशा में सबको मिलकर काम करना है, ताकि शहर की साफ-सफाई व्यवस्था और सुन्दरता को आने वाले समय के अनुरूप बनाए रखा जा सके।

 

भारतीय सेना में हो अहीर रेजिमेंट भी : डाक्टर नीलम

डेहरी-आन-सोन (वरिष्ठ संवाददाता)। स्थानीय थाना चौक स्थित नागा पथ पर नागा आश्रम में अहीर रेजिमेंट आंदोलन से जुड़े नौजवानों के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ महिला चिकित्सक डा. नीलाम सिंह यादव ने कहा कि भारतीय सेना में अहीर रेजिमेंट भी होना चाहिए, इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपे जाने वाला सामूहिक पत्र अभियान चलाया जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि 18 नवंबर 1962 में चीन से लड़ाई मेंं रेजांगला में कुमाऊ रेजीमेंट का 13वां बटालियन था, जिसमें 114 यादव जवान थे। तीन महीने बाद युद्ध में लड़ते हुए शहीद हुए इन जवानों के बर्फ में दबे शव निकाले गए तो वे लड़ाई की मुद्राओं में ही पाए गए थे। किसी के हाथ बंदूक के ट्रिगर पर तो किसी के बम के पिन पर थे, जो साबित करता है कि नौजवानों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपनी आखिरी सांस तक युद्ध किया। कुमाऊ रेजीमेंट में यादवों नौजवानों की हरियाणा, राजस्थान, यूपी, बिहार से भर्ती होती रही है। मगर हमें भी अपना घर, अपनी पहचान चाहिए, अहीर रेजिमेंट चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता संजीत सिंह यादव और संचालन इंद्रराज यादव ने किया। इस मौके पर पाठ्यक्रम में रेजांगला युद्ध की शौर्य गाथा को शामिल करने तथा 18 नवंबर को रेजागंला शौर्य दिवस घोषित करने की मांग की गई।
(रिपोर्ट, तस्वीर : वारिस अली)

 

 

आईआईटी मेन्स परीक्षा में  गौरव कुमार को 99.51 प्रतिशत अंक

सासाराम (सोनमाटी संवाददाता)। आईआईटी मेन्स परीक्षा में संतपाल स्कूल का छात्र गौरव कुमार ने 99.51 प्रतिशत अंक प्राप्त कर सूबे का मान बढ़ाया है। गौरव कुमार सासाराम के तकिया निवासी मंजू देवी और उमाशंकर सिंह का पुत्र है। गौरव के पिता सरकारी प्राइमरी विद्यालय के शिक्षक और माता गृहणी हैं। इस सफलता पर विद्यालय के चेयरमैन डा. एसपी वर्मा, प्रबंधक रोहित वर्मा, सचिव वीणा वर्मा और प्राचार्य आराधना वर्मा ने हर्ष जताया है।
(सूचना, तस्वीर : अर्जुन कुमार)

 

शरद मेला में नृत्य-संगीत का कार्यक्रम हर रोज, पुरस्कृत होंगे कलाकार

डेहरी-आन-सोन (कार्यालय प्रतिनिधि)। थाना चौक के निकट स्थित चित्रगुप्ता मैदान में शरद मेला आरंभ हो चुका है और इस मेला परिसर के मंच पर हर रोज नृत्य, गीत-संगीत कार्यक्रम का आयोजन भी सिटी का सितारा नाम से किया जा रहा है। शरद मेला आयोजनकर्ता टीम के अध्यक्ष अरुण शर्मा ने बताया कि नृत्य, गीत-संगीत का कार्यक्रम एक तरह से प्रतिस्पर्धी आयोजन है, जिसमें प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले कलाकार दल को 16 हजार रुपये की नगद राशि दी जाएगी। इस कार्यक्रम मे कोई भी अपनी कला-प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकता है। इसका उद्देश्य कला-प्रतिभा को प्रोत्साहन देना और निखारना के मंच देना है। इसके अलावा शरद मेला के मंच पर शरद मेला में विभिन्न वस्तुओं के छह दर्जन से अधिक स्टाल लगाए गए हैं, जहां बाजार के मुकाबले से कम कीतम पर चीजें उपलब्ध हैं। बच्चों-महिलाओं के लिए फास्टफुड के भी स्टाल हैं और मनोरंजन के साधन भी।
(वाट्सएप पर सूचना)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!