सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

पांच दिवसीय महोत्सव में प्रदर्शित होंगी सौ फिल्में

 0-  डा. मधु उपाध्याय दिल्ली में सम्मानित

0- गुलाब के फूल के जरिये सुरक्षित यातायात का संदेश

0- वरिष्ठ अधिवक्ता का निधन, शोकसभा

 

-मध्य प्रदेश के ओरछा में होगा हिन्दी और भारतीय भाषाओं की फीचर, लघु व डाक्युमेंट्री फिल्मों का प्रदर्शन   -फिल्म-टीवी अभिनेता आरिफ शहड़ोली हैं संयोजक, फिल्म निर्माता-निर्देशक धर्मवीर भारती बिहार-झारखंड के प्रभारी    -मुख्य संरक्षक फिल्म अभिनेता राजा बुंदेला, अभिनेत्री सुष्मिता मुखर्जी    – उद्घाटन करेंगे अमोल पालेकर और समापन की मुख्य अतिथि होंगी शबाना आजमी

डेहरी-आन-सोन (बिहार)-विशेष संवाददाता। मध्य प्रदेश के ओरछा में पांच दिवसीय भारतीय फिल्म महोत्सव का आयोजन किया गया है, जिसमें हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं की बड़ी और लघु कुल सौ फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा। दिन भर फिल्मों का प्रदर्शन होगा और शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होगा। विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को भी इसमें भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है, ताकि वे वी. शांतराम, राजकूपर जैसी युगांतर फिल्मी हस्तियों के फिल्मों को देखकर भारतीय फिल्म के इतिहास और उसकी गौरव-यात्रा को समझ सकेें।

 

चयनित फिल्मकार को सम्मानपत्र

यह जानकारी देते हुए पांच दिवसीय ओरछा फिल्म महोत्सव के संयोजक आरिफ शहडोली ने बताया कि 18 मईसे 22 मई तक आयोजित इस फिल्म महोत्सव में प्रदर्शन के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है। महोत्सव में फिल्मों की प्रतियोगिता नहीं, सिर्फ प्रदर्शन है। स्क्रीनिंग के लिए चयनित फिल्मों के फिल्मकारों को सम्मानपत्र और अंगवस्त्र प्रदान कर सम्मानित किया जाएगा। फिल्म प्रदर्शन के लिए दो बड़ी और एक छोटी टपरा टॉकीज बनेगी ।

फिल्म निर्माण वर्कशॉप का भी आयोजन
आरिफ शहडोली ने बताया कि इस फिल्म महोत्सव के अंतर्गत फिल्म निर्माण वर्कशॉप का भी आयोजन किया गया है, जिसमें सुष्मिता मुखर्जी, राकेश साहू, नीता वशिष्ठ, आरिफ शहडोली द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा। ओरछा फिल्म महोत्सव में भारतीय भाषाओं की 35 फिल्मों और 65 लघु फिल्मों का प्रदर्शन होगा। फिल्म स्क्रीनिंग के लिए दो बड़ी और एक छोटी टपरा टॉकीज बनाई जाएगी। हर दिन हजार कलाकारों के लिए भोजन का प्रबंध किया गया है। इसके लिए लघु फिल्म, फीचर फिल्म एवं वृत्तचित्र (डाक्युमेंट्री फिल्म) की संक्षित जानकारी वाली वीडियो लिंक, फिल्म का नाम, निर्माता का नाम, निर्देशक का नाम, फिल्म की अवधि, फिल्म निर्माण का वर्ष, कथासार, फिल्म का पोस्टर आदि पांच मई तक जमा करनी है। फिल्म महोत्सव के लिए चयनित फिल्मों की सूची जारी की जाएगी और बताया जाएगा कि किस दिन कौन-कौन फिल्म प्रदर्शित होगी?

धर्मवीर भारती बिहार-झारखंड के चयन प्रभारी
ओरछा फिल्म महोत्सव के लिए बिहार-झारखंड का प्रभारी युवा फिल्म निर्माता-निर्देशक धर्मवीर भारती को बनाया गया है। धर्मवीर भारती ने बिहार-झारखंड के फिल्म निर्माताओं और निर्देशकों से अपील की है कि इस महोत्सव में अधिक से अधिक शिरकत कर इसका लाभ उठाएं। ओरछा फिल्म महोत्सव के लिए  इंट्री ऑफ लाइन है। नामांकन से संबंधित जानकारी वाट्सअप नवम्बर 07070886737 पर करनी है।

धर्मवीर भारती ने बताया है कि फिल्म फेस्टीवल का शुभारंभ फिल्म अभिनेता अमोल पालेकर करेंगे और समापन मशहूर फिल्म अभिनेत्री शबाना आजमी करेंगी। पांच दिवसीय महोत्सव में माया नगरी मुंबई से कई हस्तियांं शिरकत करेंगी, जिनमें रमेश सिप्पी, गोविंद निहलानी, बोनी कपूर, मनमोहन शेट्टी, उलमीत मक्कड़, अपूर्व जोशी, प्रेम चोपड़ा आदि शामिल हैं।

(वेब रिपोर्ट : उपेन्द्र कश्यप)

 

डा. मधु उपाध्याय दिल्ली में सम्मानित

सासाराम (बिहार)-सोनमाटी संवाददाता। स्वच्छ भारत की बिहार की पहली प्रदेश आईकान डा. मधु उपाध्याय को नई दिल्ली में भारत सरकार के मंत्री रामदास अठावले ने स्वच्छता तथा महिला सशक्तिकरण का बेहतर कार्य करने के लिए प्रतीक चिह्नï, प्रशस्तिपत्र और चेक प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी भी उपस्थित थीं। महिला राजनीति सशक्तिकरण दिवस पर आयोजित समारोह के अवसर पर यह सम्मान देश की तीन महिलाओं को दिया गया, जिनमें एक रोहतास जिले के संझौली प्रखंड की उप प्रमुख डा. मधु उपाध्याय भी शामिल थी। डा. मधु उपाध्याय को ओडीएफ (ओपेन डिफेक्शन फ्री) अर्थात खुले में शौच से मुक्ति के लिए केेंद्र सरकार की ओर से पहले भी सम्मानपत्र दिया जा चुका है। बिहार में ओडीएफ अभियान की शुरुआत जून 2016 में हुई थी और संझौली डा. मधु उपाध्याय के नेतृत्व में राज्य का पहला ओडीएफ प्रखंड बना। डा.उपाध्याय का कहना है, ओडीएफ के लिए सामुदायिक शौचालयों की देख-रेख का कामयाब तंत्र भी विकसित करना होगा, क्योंकि निगरानी की जवाबदेह तंत्र के बिना गांवोंं में ओडीएफ संस्कृति स्थापित नहीं हो सकती।

 

सोननगर जंक्शन पर जरूरी यात्री सुविधाओं की मांग

बारूण (औरंगाबाद)-सोनमाटी संवाददाता। रेल यात्री कल्याण संस्थान के अध्यक्ष राजकिशोर गुप्ता ने सोननगर जंक्शन की सुविधाओं में वृद्धि के लिए मांगपत्र मंडल रेल प्रबंधक (पूर्व मध्य रेलवे, मुगलसराय) को भेजा है। मांगपत्र में फस्र्ट क्लास व सेकंड क्लास वेटिंग रूम का निर्माण करने, कंप्यूटराइज अनाउंसमेंट व डिस्प्ले बोर्ड की व्यवस्था करने, नया प्लेटफॉर्म बनाने, नई दिल्ली महाबोधि एक्सप्रेस काठहराव करने आदि मांग शामिल है। बारुण में माल गोदाम का अप्रोच रोड बरसात में कीचड़-पानी से भर जाता है, जो नेशनल हाईवे और बारूण-दाउदनगर रोड का लिंक भी है। सोननगर अंडर ब्रिज पुल ब्रिटिश शासन में बना एकल संकीर्ण पुल है। इसका चौड़ीकरण-पक्कीकरण कर नाले से पानी निकास होना चाहिए। मांगपत्र में कहा गया है कि डाउन प्लेटफॉर्म के समीप ऑटो रिक्शा व कार स्टैंड के अभाव में यात्रियों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है।

 

गुलाब के फूल के जरिये सुरक्षित यातायात का संदेश

दाउदनगर (औरंगाबाद)-सोनमाटी संवाददाता। स्वामी विवेकानंद मिशन स्कूल की ओर से सड़क जागरूकता का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के अंतर्गत स्कूल के छात्र-छात्राओं ने सड़क का नियमों का पालन नहींकरने और करने वालों को भी गुलाब का फूल भेंटकर उन्हें यातायात के नियम का पालन करने का संदेश दिया, ताकि सड़क दुर्घटनाएं नहींहों और सड़क यात्रा सबके लिए सुरक्षित बनी रह सके। स्वामी विवेकानंद मिशन स्कूल के निदेशक डा. शंभूशरण सिंह ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने में पुलिस-प्रशासन को स्कूल के बच्चों को सहयोग करने और उनका उत्साहवद्र्धन करने के लिए धन्यवाद दिया।

 

 

वरिष्ठ अधिवक्ता का निधन, शोकसभा

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-सोनमाटी संवाददाता। डेहरी अनुमंडल न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता जितेन्द्र कुमार के आकस्मिक निधन पर अनुमंडल न्यायालय परिसर में डेहरी अनुमंडल विधिज्ञ संघ की ओर शोकसभा का आयोजन कर संवेदना व्यक्त की गई और शोकसभा के बाद अधिवक्ताओं ने न्यायालय परिसर में कार्य नहींकिया। अनुमंडल विधिज्ञ संघ के अध्यक्ष उमाशंकर पांडेय उर्फ मुटुर पांडेय और सचिव मिथिलेश कुमार सिन्हा के नेतृत्व में कमल सिन्हा, बैरिस्टर सिंह, मनोज अज्ञानी, प्रवीण दुबे, भागीरथी सिंह, विनोद पाल, अमरनाथ यादव, चंद्रिका राम, बलिराम तिवारी, दिनेश्वर पासवान आदि अधिवक्ताओं ने अपने एक वरिष्ठ साथी खोने पर दुख प्रकट किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!