सोशल डिस्टेन्स : कड़ाई से पालन का निर्देश/झुनझुनवाला को जमानत/राहत पैकेट वितरण/सनबीम में आनलाइन पढ़ाई/पाठ्यसामग्री मुहैया कराने की मांग/प्रेसगली में बच्चों का योगाभ्यास प्रयोग

(डेहरी-आन-सोन में जोड़ा मंदिर स्थित प्रेस गली के स्कूली बच्चों का दैनिक योग सत्र )

सासाराम/डेहरी-आन-सोन/दाउदनगर (सोनमाटी टीम)। कोरोना संक्रमण की आशंका के मद्देनजर रोहतास जिला प्रशासन ने इस जिला से जुडऩे वाली औरंगाबाद, कैमूर, अरवल, भोजपुर और बक्सर जिलों की सड़कों-सीमाओं को सील कर दिया है। जिलाधिकारी पंकज दीक्षित द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों और प्रखंड विकास पदाधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के जरिये हर हाल में सोशल डिस्टेन्स का पालन कराने का निर्देश दिया गया है, ताकि लाकडाउन का उद्देश्य सार्थक हो सके। कहा कि आपदा का यह समय राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा सस्ती लोकप्रियता के लिए राहत सामग्री बांटने के नाम पर भीड़ एकत्र कर सोशल डिस्टेन्सिंग भंग करने का नहीं है। जिलाधिकारी की ओर से यह निर्देश है कि सब्जी बाजारों, राशन दुकानों, भोजन राहत स्थलों, दवा दुकानों पर सोशल डिस्टेन्स (सामाजिक दूरी) और क्वांटराइन (पृथकवास) के पालन में अधिक सतर्कता और कड़ाई जरूरी है। इसीलिए उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब से खेतों में गेहंू की कटाई के लिए आए हार्वेस्टर चालकों को भी प्रशासन के आदेश पर उनके स्वास्थ्य की जांच की गई और दो हफ्ते के लिए क्वारंटाइन (पृथकवास) में भेजा गया। जिला प्रशासन ने रोहतास में दूसरे प्रदेश के 306 प्रशिक्षित हार्वेस्टर चालकों के लिए अनुमति-पत्र जारी किया है। प्रशासन की ओर से कहा गया है कि राहत सामग्री, भोजन पैकेट बांटने वाले अपने निकटवर्ती प्रशासनिक अधिकारियों और सरकारी राहत शिविरों से संपर्क कर वहां सामग्री मुहैया कराएं, ताकि सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए प्रशासन द्वारा वास्तविक जरूरतमंदों तक जरूरी सामग्री पहुंचाई जा सकेें। उधर, रोहतास के पुलिस अधीक्षक सत्यवीर सिंह ने भी थानाध्यक्षों को जान-बूझ कर सोशल डिस्टेन्स भंग कर अराजक तरीके से भीड़ लगाने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया है।

पवन झुनझुनवाला को कोर्ट से जमानत :
सोशल डिस्टेन्स का पालन भंग होने के प्रथमद्रष्टया आरोप में बिहार प्रदेश मारवाड़ी सम्मेलन की डेहरी-आन-सोन शाखा अध्यक्ष पवन कुमार झुनझुनवाला को 11 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया, जिन्हें डेहरी थाना पुलिस द्वारा न्यायिक हिरासत में अनुमंडल न्यायालय में पेश होने के बाद जमानत मिल गई। दरअसल पुलिस रिकार्ड में पहले से जुआ, ठगी, नशीला पदार्थ आदि से संंबंधित दर्ज आधे दर्जन कांडों के मुख्य अभियुक्त लाटरी माफिया पवन झुनझुनवाला उर्फ पवन सेठ की गिरफ्तारी कानून को बार-बार अंगूठा दिखाने के मद्देनजर ही लाकडाउन के उल्लंघन में की गई। इस बात पर पर्दा डालते हुए निहित स्वार्थ वाले कतिपय लोगों द्वारा यह प्रचारित किया गया कि पवन झुनझुनवाला को गिरफ्तार कर पुलिस-प्रशासन ने गरीबों की मदद को अपराध करार देने का कार्य किया है। दूसरा तर्क यह दिया गया कि भूख से व्याकुल लोग बड़ी संख्या में पवन झुनझुनवाला के घर की ओर राहत सामग्री वितरण की जानकारी पाकर खिंचे चले आए और अराजक तरीके से भीड़ की शक्ल में तब्दील हो गए, जिससे लाकडाउन प्रावधान (कानून) का पालन नहींहो सका।

डालमियानगर में राहत सामग्री वितरित :
पटना हाईकोर्ट के कपंनी जज के अधीन शासकीय समापक हिमांशु शेखर और रोहतास इंडस्ट्रीज काम्पलेक्स के प्रभारी प्रबंध की व्यक्तिगत पहल पर मथुरापुर कालोनी, चौधरी चौक, मौनिया बिगहा, रत्तू बिगहा, एस टाइप, स्टार टाइप, लाइट रेलवे कालोनी, बसावन पथ आदि इलाकों में श्रमिकों और असहाय परिवारों के बीच खाद्य सामग्री के 500 पैकेटों का वितरण घर-घर जाकर सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए लाकडाउन (पार्ट-1) के आखिरी छह दिनों में किया गया। चावल, दाल, नमक, दाल, आलू, साबुन, बिस्कुट वाले करीब पांच किलो के पैकेट उपलब्ध हुए एक टन चावल, आधा टन आलू, 250 किलो नमक, 200 किलो दाल, 500 साबुन और 1000 हजार बिस्कुट से बनाए गए थे। एआर वर्मा के अनुसार, राहत सामग्री वितरण के सेवा-कार्य में प्रो. अजीत कुमार सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता गोरखनाथ विमल, गया प्रसाद शर्मा और श्रमिक नेता गिरिजानंदन सिंह, नागेश्वर सिंह के साथ रोहतास इंडस्ट्रीज कांप्लेक्स के कर्मचारी सक्रिय थे, जिसके लिए अनुमंडलाधिकारी और डालमियानगर थाना प्रभारी का अनुकूल सहयोग प्राप्त हुआ।

सनबीम स्कूल में आनलाइन पढ़ाई :
सीबीएसई, दिल्ली के निर्देशानुसार, डेहरी-आन-सोन स्थित आवासीय सनबीम पब्लिक स्कूल में प्रबंधन की पहल पर शिक्षकों और छात्र-छात्राओं की सक्रियता से आनलाइन पढ़ाई आरंभ कर दी गई है। इसमें अभिभावकों की ओर से बेहतर रिस्पांस मिल रहा है। अभिभावक अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए छात्र-छात्राओं को आवश्यक दूरसंचार संसाधन (लैपटाप, टेबलेट, डेस्कटाप, इंटरनेट कनेक्शन, एप) उपलब्ध कराने के प्रति गंभीर हैं। कक्षा-1 से 10 तक के विद्यार्थियों को यू-ट्यूब के परीक्षित कक्षा व्याख्यान मुहैया कराए जा रहे हैं। सनबीम स्कूल की प्राचार्य अनुभा सिन्हा ने बताया कि इस दिशा में आने वाली अड़चनों को दूर करने का प्रयास जारी है और अभिभावकों के सुझावों का स्वागत है। आनलाइन पढ़ाई का अनुभव छात्र-छात्राओं के लिए भी नया है और शिक्षकों-प्रबंधकों के लिए भी। छोटी कक्षाओं के विद्यार्थियों पर भी आनलाइन पढ़ाई को फोकस किया गया है। शंका समाधान के लिए शिक्षकों से विद्यार्थियों का दूर-संपर्क प्रावधान किया गया है। सनबीम स्कूल का यह प्रयोग विद्यार्थियों को अपने पाठ्यक्रम पूरा करने के साथ घर में विद्यालय को आकार दे रहा है। बेशक, आरंभ में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, मगर समय बीतने के साथ सब कुछ सामान्य, ग्राह्य और उपयोगी हो जाएगा।

कोरोना आपदा से संकट में विद्यार्थी :
दाउदनगर (औरंगाबाद) के वरिष्ठ पत्रकार अभिभावक उपेन्द्र कश्यप ने औरंगाबाद के जिलाधिकारी को वाह्टसएप के जरिये संदेश-पत्र भेजकर जिले के छात्र-छात्राओं को उनके संबंधित विद्यालयों से पुस्तक और पाठ्य सामग्री प्राप्त करने का प्रबंध कराए जाने की अपील की है और संबंधित निर्देश दाउदनगर के अनुमंडलाधिकारी को देने का आग्रह किया है। जिलाधिकारी को भेजे अपने संदेश में उन्होंने कहा है कि इससे विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम पूरा करने में बहुत हद तक सहायता मिलेगी। बताया है कि उनके बच्चे भी दाउदनगर के दो निजी विद्यालयों में पढ़ते हैं, इसलिए उन्हें पठन-पाठन की वस्तुस्थिति की जानकारी है। हालांकि कई विद्यालयों ने इंटरनेट के जरिये डिजिटल माध्यम से पढ़ाई की व्यवस्था शुरू भी कर दी है, मगर यह सभी विद्यालयों और सभी श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए संभव नहींहै। छात्र-छात्राओं को पाठ्य सामग्री उपलब्ध होने पर उन्हें अपने पाठ्यक्रम को पूरा करने में मदद मिलेगी।

प्रेस गली के स्कूली बच्चों का दैनिक योग सत्र :
लाकडाउन के तनाव के मद्देनजर छोटे-बड़े स्कूली बच्चों ने अपनी गली में अपने-अपने घर के सामने दैनिक योग-अभ्यास आरंभ कर दिया है। शहर के जोड़ा मंदिर स्थित प्रेस गली में बच्चों का यह स्वत:स्फूर्त प्रयोग एक सप्ताह से जारी है। एकदम छोटे बच्चों ने इसे एक खेल के तौर पर शुरुआत की और अब इसमें हाई स्कूल के छात्र-छात्राएं भी शामिल हो गए हैं। न्यूएरिया (जोड़ामंदिर रोड) और जक्खीबिगहा मुहल्ले को जोडऩे वाली सौ मीटर से अधिक लंबी गली के बच्चे अपने बैठने वाली जगह को सैनिटाइज कर सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए सुबह स्कूल के समय पर आधा घंटा का योग सत्र में भाग ले रहे हैं। सोच यह है कि इस कार्य से स्कूल नहीं जाने के बावजूद बच्चों का सुबह उठकर तैयार होने का अभ्यास नियमित बना रहेगा और तनाव कम हो सकेगा। प्रेस गली को पानी से धोने के बाद दरी-चटाई बिछाकर सैनिटाइज कर होने वाले इस योगसत्र का संयोजन-संचालन समुद्री जहाज अभियंता संजीव कुमार और सोन कला केन्द्र के सचिव निशान्त राज कर रहे हैं। किशोरों का योग कक्षा प्रशिक्षण का कार्य चिकित्सा छात्र उमंग कुमार द्वारा और छोटे बच्चों, छात्राओं का प्रशिक्षण कार्य सनबीम स्कूल की छात्रा कुमारी झील द्वारा किया जा रहा है। बच्चों के इस योगसत्र के दौरान प्रेस गली में पैदल आवाजाही बंद रहती है।
(रिपोर्ट, तस्वीर : निशांत राज/उपेन्द्र कश्यप/अर्जुन कुमार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.