सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

2022 तक दूर होगी गरीबी

केेंद्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव ने किया 50 हजार ग्रामपंचायतों के लिए दावा

दूसरों को भी रोजगार देने की स्थिति में होंगे युवा : राजीव रंजन,

रोहतास के जिला जज ने दिया किशोरों पर बहुत जरूरी होने पर ही एफआईआर दर्ज करने का निर्देश

बिहार में फिर बिगड़ी कानून-व्यवस्था : ब्रजमोहन सिंह

पटना /डेहरी-आन-सोन /सासाराम (बिहार)-सोनमाटी समाचार।  केेंद्र सरकार का लक्ष्य 2022 तक बिहार सहित देश भर के 50 हजार ग्रामपंचायतों को अंत्योदय मिशन से जोड़कर गरीबी दूर करने का है। इन पंचायतों में सभी विकास योजनाओं की एकीकृत मानीटरिंग केेंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय कर रहा है। यह जानकारी सोनमाटीडाटकाम को केेंद्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव ने दी। उन्होंने माना कि बिहार में इस दिशा में औसत रूप से गति धीमी है, मगर महिला सशक्तिकरण की योजनाओं में बिहार अन्य राज्यों से आगे हैं।


जबकि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन ने सोनमाटीडाटकाम को बताया कि कौशल विकास योजना के तहत देश भर में एक करोड़ युवाओं को रोजगारपरक प्रशिक्षण देने का लक्ष्य है। 52 लाख युवा प्रशिक्षित किए जा चुके हैं। मुद्रा योजना के तहत वित्त पोषण करने में प्रशिक्षित युवाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। एक एजेंसी से 3-5 लाख युवाओं को जापान भेजकर ट्रेनिंग प्राप्त करने का करार भी भारत सरकार ने किया है। जबकि उन्होंने कहा कि इस तरह नौकरी की तलाश में रहने वाले युवा विभिन्न तरह की तकनीकी दक्षता प्राप्त कर लेने के बाद दूसरों को भी रोजगार दे सकने की स्थिति में आ जाएंगे।
सासाराम (रोहतास) में जिला जज प्रभुनाथ सिंह की अध्यक्षता में किशोर न्याय परिषद की हुई बैठक में जिला जज ने बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारियों को यह जानकारी दी की साधारण अपराध धाराओं के तहत किशोरों पर प्राथमिकी दर्ज नहींहोनी चाहिए। किशोरों पर प्राथमिकी गंभीर अपराध या बालिगों के सहयोगी होने के मामले में दर्ज की जानी चाहिए। बैठक में किशोर न्याय परिषद की प्रधान सदस्य कुमारी ज्योत्सना, सदस्य ददन पांडेय सहित अन्य पदाधिकारियों ने भाग लिया।
उधर, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव ब्रजमोहन सिंह ने कहा है कि बिहार सरकार पूर्ण शराबबंदी, बाल विवाह व दहेज प्रथा पर नए सिरे से प्रतिबंध लगा सामाजिक कुरीति दूर करने के प्रयास के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है, मगर राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति फिर बिगड़ चुकी है और बिहार अ राजकता की ओर जाने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!