सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

सोनू सूद की पहुंची मदद/ ‘बाहर खड़ी फगुनाहट’/ अनुराधाकृष्ण को एवार्ड

‘खुद कमाओ, घर चलाओ और सवारी को संगीत सुनाओ

दाउदनगर (औरंगाबाद)- कार्यालय प्रतिनिधि। कोविड-19 के जानलेवा आरंभिक प्रसार के मद्देनजर लागू हुए लाकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य भेजकर चर्चा में आए बालीवुड एक्टर सोनू सूद ने अब ‘खुद कमाओ और घर चलाओ’ अभियान चलाया है। स्वावलम्बी बनाने के लिए वह जरूरतमंदों को औद्योगिक घराना के माध्यम से इलेक्ट्रानिक रिक्शा दे रहे हैं। औरंगाबाद जिला के रफीगंज प्रखंड के चरकावां पंचायत के बद्दोपुर गांव निवासी विकलांग अवधेश पासवान को भी उन्होंने ई-रिक्शा दिया है। बचपन से पैर से विकलांग अवधेश पासवान चंडीगढ़ से संगीत में मास्टर डिग्री धारक हैं। प्रदीप कुमार ने 12 मार्च को अवधेश पासवान की निर्धनता के बाबत वीडियो अपलोड कर ट्वीट कर सोनू सूद और उनकी टीम के गोविन्द अग्रवाल को टैग किया था। ट्वीट में ई-रिक्शा या आटो दिए जाने की मांग की गई थी। जवाब में सोनू सूद ने 15 मार्च को ट्वीट किया- ‘ई-रिक्शा बिहार भेज रहे हैं, अब अपनी सवारियों को संगीत सुनाइएगा’। सोनू सूद की संस्था के प्रतिनिधि गोविंद अग्रवाल की ओर से अवधेश पासवान के लिए भेजा गया ई-रिक्शा की चाभी 20 मार्च को प्राप्त हो चुकी है। अवधेश पासवान ने अपना आभार व्यक्त करते हुए कहा है कि सोनू सूद और गोविन्द अग्रवाल मसीहा से कम नहीं, जिन्होंने मुझे आर्थिक रूप से पैरों पर खड़ा होने का अवसर दिया।

…जो खिड़की से बाहर झांका तो खड़ी मिली फगुनाहट !

पटना (सोनमाटी समाचार नेटवर्क)। होली की आहट और कोरोना के भय के बीच वरिष्ठ शायर अनिरुद्ध सिन्हा (मुंगेर) के पटना आगमन पर साहित्यिक संस्थाओं भारतीय युवा साहित्यकार परिषद और साहित्य परिक्रमा की ओर से हनुमाननगर सिद्धेश सदन में काव्य संध्या गोष्ठी वरिष्ठ साहित्यकार ‘नई धारा’ पत्रिका के संपादक डा. शिव नारायण की अध्यक्षता में हुई। संचालन वरिष्ठ चित्रकार-कथाकार-कवि सिद्धेश्वर ने किया।
गोष्ठी के अतिथि अनिरुद्ध सिन्हा ने अपनी गजलों का पाठ कर माहौल को होलीमय बना दिया। उन्होंने अपनी रचना पढ़ी- ‘उलझनों से तो कभी प्यार से कट जाती है जिंदगी वक्त की रफ्तार से कट जाती है’!
शरद रंजन शरद ने कविता कही, ‘एक बच्चे की तरह से देखना, जिंदगी को इस वजह से देखना, कौन कहता है कि दिल मिलता नहीं, जिस्म को अच्छी निगह से देखना’!
घनश्याम ने कहा, ‘सियासी चालबाजी में अगर मैं दक्ष हो जाता तो संभव था मैं भी आपके समकक्ष हो जाताÓ!
डा. शिवनारायण ने पाठ किया-‘जिन्दगी को गुनगुना कर देखिए, छन्द में इसको सजा कर देखिए, दिल के अंदर रोशनी बढ़ जाएगी, दूसरे का गम उठा कर देखिए’!
सिद्धेश्वर ने कविता पढ़ी- ‘दूर अंधेरा हुआ, रोशनी आ गई, मौत को मात दे जिंदगी आ गई’!
मधुरेश नारायण ने कहा- ‘हौले-हौले चुपके-चुपके है यह किस की आहट, खिडकी से बाहर झांका तो खड़ी मिली फगुनाहट’।
गोष्ठी में आराधना प्रसाद, राजप्रिया रानी, पंकज प्रियम आदि ने भी अपनी कविताओं का पाठ किया। काव्य गोष्ठी का समापन मधुरेश नारायन के धन्यवाद-ज्ञापन से हुआ।

  • प्रस्तुति : बीना गुप्ता 9234760365

ब्यूटीशियन वर्कशाप में अनुराधाकृष्ण को एवार्ड

सासाराम (रोहतास)-कार्यालय प्रतिनिधि। स्कूल आफ ब्यूटी कल्चर (फेमिना हर्बल ब्यूटी पार्लर) की ओर से तीन दिवसीय ब्यूटीशियन एंड प्रोफेशनल मेकअप वर्कशाप का आयोजन किया गया। ग्रामीण ब्यूटी पार्लर के विकास और महिला रोजगार सृजन के कार्यक्रम वाली इस कार्यशाला का संयोजन डा. रीना गोस्वामी ने किया। इस कार्यशाला में मुंबई के वालीवुड, मुंबई के मेकअप कलाकार बीरू श्रीवास्तव और मेरठ की प्रसिद्ध ब्यूटीशियन अमृता सिंह ने सुंदरता के प्राकृतिक और कृत्रिम संसाधन-प्रसाधन की जानकारी दी। कार्यशाला में विभिन्न क्षेत्रों से आई महिला ब्यूटीशियनों ने हिस्सा लिया। इस अवसर पर कैमूर (कुदरा) की पूर्व जिला पार्षद और भोजपुरी की अभिनेत्री-लोकगायिका अनुराधाकृष्ण रस्तोगी को लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड दिया गया और अन्य कलाकारों को भी सम्मानित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!