ये जिंदगी की मुर्दा कतारें

पुस्तक समीक्षा

 

कविता की सार्थकता युगीन यथार्थ को सामने लाने में है, युग की नब्ज को पकडऩे में है और पाठकों की संवेदना को जगाने में है। सरला माहेश्वरी की कविताएं भी युगबोध को सामने लाने वाली कविताएं हैं। कठिन समय का इतिहास रचती कविताएं हैं। संकटग्रस्त समय की चुनौतियों को पेश करती कविताएं हैं। वर्तमान सत्ता के छल-छद्म को परत-दर-परत उजागर करती और आम जन की परिवर्तनकामी शक्ति में विश्वास जगाती कविताएं हैं। इनकी कविताएं सवालों को सामने रखती हैं और पाठकों से संवाद करती हैं। एक तरफ जहां इनकी कविताएं शासक वर्ग की कुटिल चालों को उजागर और लोगों को सचेत करती हैं, वहीं शोषण के तंत्र के ख़िलाफ फूटने वाले लावे का संकेत भी हैं।
ये जिंदगी की मुर्दा कतारें (कविता संग्रह) की कविताएं पाठकों को जोडऩे वाली कविताएं हैं। इस तरह की कविताएं आज के दौर में कम लिखी जा रही हैं। सरला माहेश्वरी दशकों से आम जनता के संघर्षों से प्रत्यक्ष तौर पर जुड़ी रही हैं। इनकी कविताएं संघर्षों की जमीन से निकली हैं। इनकी कविताओं में सबसे प्रमुख उनका कथ्य ही है। दरअसल, कथ्य ही प्रधान होता है और वही शिल्प को निर्धारित करता है। सरला माहेश्वरी की कविताएं आम जन के लिए लिखी गई हैं।
हालांकि कविता संग्रह (ये जिंदगी की मुर्दा कतारें) में हर रंग और मिजाज की कविताएं हैं, मगर कविताओं का मूल स्वर शोषण की व्यवस्था के खिलाफ संघर्ष है। कविताएं पाठकों के दिलोदिमाग में एक बैचैनी पैदा कर देती हैं। सोचने को विवश कर देती हैंं। लावारिस नोटबंदी का लल्ला, मुझे मेरे भक्तों से बचाओ, ऐसा भी क्या झूठ अहँकार जी, डिजिटल टाइम में आदि कविताएं सत्ता के छद्म पर प्रहार करती हैं। कुछ कविताओं में तिलमिला देने वाला व्यंग्य है। कहकर आप हँसे, काला जादू, बागों में बहार है ऐसी ही कविताएं हैं। राजा मिडास (कविता) में मिथक का इस्तेमाल आज के कटु राजनीतिक यथार्थ को सामने लाने के लिए किया गया है। हम सबको बस नजीब चाहिए जैसी कविता संभवत: हिंदी में पहली बार लिखी गई है। सत्य का सुख, भविष्य रुका हुआ है तुम्हारे लिये, ओ लेनिन इस संग्रह की श्रेष्ठ कविताएं मानी जा सकती हैं। इतिहास के संघर्ष को जिस तरह रूपायित किया गया है, वह हिंदी कविता में दुर्लभ रहा है।
विजय कुमार का मानना है कि सरला माहेश्वरी की कविताएं मौजूदा हिंसक समय में असंगतियों के बीच नागरिक चेतना को जानने-समझने की कविताएं हैं। जबकि हिंदी-पंजाबी की साहित्यकार वीणा भाटिया मानती हैं कि साधारण पाठक भी सरला माहेश्वरी की कविताओं को पढऩा शुरू करता है तो पढ़ता ही चला जाता है और उसे लगता है कि यह तो उसकी ही बात कही जा रही है। कविताएं पढ़ते हुए समाज-व्यवस्था और राजनीति का छल-छद्म उसके सामने खुलता चला जाता है।
ये जिंदगी की मुर्दा कतारें सरला माहेश्वरी की कविताओं का पांचवां संग्रह है। इससे पहले आसमान के घर की खुली खिड़कियां, तुम्हें सोने नहीं देगी, लिखने दो और आओ आज हम गले लग जाएं प्रकाशित हुई हैं। नवीनतम (पांचवें) संग्रह में कुल पचास कविताएं हैं। संग्रहित कविताओं में एक झलक प्रस्तुत है।
किसी बैंक के शटर की आवाज से जाग जाती हैं!
एक-दूसरे को धकियाती, गरियाती और लडऩे लगती हैं,ये!
ये इस तरह की चप्पलों, जूतों, ईंटों, अख़बारों की कतारें!
ये जिंदगी की मुर्दा कतारें!
जैसे सांसों पर हुकूमत की ठोकरें!
मुर्दा नोटों की कतारें!

पुस्तक : ये जिंदगी की मुर्दा कतारें
रचनाकार : सरला माहेश्वरी
प्रकाशक : सूर्य प्रकाशन मंदिर, बीकानेर (राजस्थान)
मूल्य : 250 रुपए मात्र
प्रकाशन वर्ष : 2017

 

समीक्षक : मनोज कुमार झा
समाचार संपादक, भास्करडाटकाम
फोन 7509664223, 7999596288

  • Related Posts

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर एक दिन हमने प्रेम के प्रतीकएक गुलमोहर का बिरवा रोपाज्यों- ज्यों बढ़ा बिरवात्यों- त्यों परवान चढ़ा हमारा प्रेमज्यों- ज्यों खिला गुलमोहरत्यों- त्यों खिली हमारी…

    योग मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक अनुशासन का संबंध है

    योग मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक अनुशासन का संबंध है -निशांत राज, प्रबंध संपादक, सोनमाटी योग को हमारे जीवनशैली में बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 21 जून को अंतराराष्ट्रीय…

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    You Missed

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद