कोरोना संकट : किन्नर बने समाजसेवी / डेहरी में आगे आए चिकित्सक / सासाराम में खाना बांट रहे स्वयंसेवी

बिहटा में मदद को निकली किन्नरों की टोली

पटना/डेहरी-आन-सोन/सासाराम (सोनमाटी टीम)। कोरोना महामारी से जारी वैश्विक महायुद्ध में भारत में 21 दिवसीय पूर्णबंदी (लाकडाउन) की अवधि खत्म होने के नौ दिन पहले 5 अप्रैल की रात 9 बजे अखिल भारतीय लोकमत-मनोबल की एकजुटता प्रदर्शन के जरिये घुप अंधेरा कर आरती जैसी हल्की रोशनी में उम्मीद के नए बीज प्रस्फुटन की कामना की जाएगी। कोरोना विषाणु के संक्रमण-प्रसार से बचने के लिए देश में 14 अप्रैल तक घोषित पूर्ण बंदी (लाकडाउन) में गरीबों को सबसे अधिक कठिनाई और कष्ट झेलना पड़ रहा है। दैनिक श्रमिक, सूक्ष्म स्वरोजगारधारी अधिक विपदा में हैं। ऐसे जरूरतमंदों के लिए भोजन, दवा और इलाज इस लाकडाउन की सबसे बड़ी अनिवार्यता है। यह सुखद है कि समाज के साधनसंपन्न मदद के लिए आगे बढ़ रहे हैं। यही नहीं, जिन किन्नरों से समाज दूरी बना कर रखता है, वही किन्नर समुदाय कोरोना संकट में समाज के अत्यंत निर्धन तबके की मदद करने निकल पड़ा है। बिहटा (पटना) के किन्नरों की टोली अपने घरों में गरीबों के लिए खाना बनाने के बाद उसे बांटने अलग-अलग इलाकों में निकल रही है।


घरों में खाना बनाकर पैकेट में बांट रहे :
सासाराम (रोहतास) में बाल विद्यामंदिर परिवार और भारतीय मानवाधिकार एसोसिएशन की ओर से साफ-सफाई और सामाजिक अलगाव का पालन करते हुए शंकरपुरी तकिया स्कूल, बढ़ैयाबाग, धर्मशाला रोड, तकिया, बेदा आदि में खिचड़ी के पैकेट बांटे गए। बाल विद्या मंदिर परिवार के अध्यक्ष नवीन सिन्हा के अनुसार, दोनों संगठनों ने पिछले दिनों प्रतिदिन गरीबों को जगह-जगह पर भोजन बांटने का सेवा कार्य शुरू किया गया है। संस्था के सदस्य और उनके परिवार भोजन, पैकेट बनाने और उसे स्थल तक पहुंचाने के काम में स्वयंसेवी स्तर पर जुटे हुए हैं, जिसमें बाल विद्या मंदिर के प्रवक्ता अर्जुन कुमार, समन्वयक डा. प्रवीण सिन्हा, डा. राकेश बघेल, शैलेन्द्र लाल, मीना सिन्हा, कमला देवी, सृष्टि श्रीवास्तव, शाश्वत श्रीवास्तव, अमन किशोर, अभिषेक कुमार, विपिन तिवारी आदि सहयोग कर रहे हैं।
संकटमोचन चिकित्सा स्वास्थ्य केेंद्र :
डेहरी-आन-सोन (रोहतास) में चिकित्सकों द्वारा समाज के अंतिम पायदान पर खड़े लोगों के दुख पर मरहम लगाने का कार्य जारी है। ऐसा ही प्रयास वरिष्ठ चिकित्सक डा. एसबी प्रसाद द्वारा संचालित संकटमोचन स्वास्थ्य सहायता केेंद्र है, जिसमें चिह्निïत मरीजों को भेजने का कार्य सोन कला केन्द्र के स्टेशन रोड स्थित शंकर लाज कार्यालय को भी सौंपा गया है। सोन कला केन्द्र के अध्यक्ष दयानिधि श्रीवास्तव के अनुसार, फिलहाल अप्रैल तक इस स्वास्थ्य केेंद्र में चिह्निïत गरीब मरीजों की चिकित्सकीय जांच निशुल्क है और चिकित्सक की सलाह की फीस नहीं है। शहर के दो अन्य वरिष्ठ चिकित्सक चित्रगुप्त समाज कल्याण ट्रस्ट की ओर से कायस्थ समाज के सबसे निर्धन परिवार की मदद करने में सक्रिय हैं। दोनों चिकित्सकों डा. रागिनी सिन्हा (ट्रस्ट की संस्थापक) और डा. उदयकुमार सिन्हा (अध्यक्ष), कोषाध्यक्ष राजीव रंजन के साथ अनुभा सिन्हा (सनबीम स्कूल), कार्यकारी अध्यक्ष मिथिलेश कुमार सिन्हा, मालिनी राय ( (संवेदना अस्पताल) आदि ट्रस्ट सदस्य सक्रिय हैं। डा. एसबी प्रसाद ने जनहित में कोरोना से बचाव के एहतियात की सार्वजनिक सलाह शहर में सबसे पहले दी थी। अब मनोचिकित्सक डा. उदयकुमार सिन्हा ने यह सलाह दी है कि सबकी मानसिक क्षमता अलग-अलग होती है, इसलिए दिन-रात कोरोना की खबरों को सुनना-देखना कमजोर मानसिक क्षमता वालों के लिए घातक हो सकता है। ऐसे लोग डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं। आम आदमी को कोरोना के बारे में जितना जानना चाहिए, वह जान गया है। डा. रागिनी सिन्हा, डा. एसबी प्रसाद और डा. उदयकुमार सिन्हा ने सामूहिक मिश्रण नहीं करने और सामाजिक अलगाव का हर हाल में पालन करने की बात कही है।
शहर डेहरी-आन-सोन में सोन कला केन्द्र के अलावा सोनघाटी पुरातत्व परिषद, डेहरी चेस क्लब, टीम इंडिया बैडमिंटन क्लब आदि अनेक संस्थाओं से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता भी अपने-अपने तरीके से कोरोना संक्रमण को रोकने के प्रयास और निर्धनों के लिए भोजन के संभव प्रबंध में लगे हुए हैं। पश्चिमी मोहन बिगहा, लाला कालोनी, प्रेस गली आदि मुहल्लों-गलियों में भी युवाओं की अनेक टीम राहत सामग्री बांटने और जागरूकता कार्य के लिए सामने आई है। सोन कला केन्द्र के संरक्षक अरुण कुमार गुप्ता (कारपोरेट कन्सलटेन्ट), अध्यक्ष दयानिधि श्रीवास्तव, रोहतास इंडस्ट्रीज काम्पलेक्स के डालमियानगर प्रभारी एआर वर्मा, संतोषकुमार गुप्ता (उर्वशी होटल), अरुण गुप्ता (कामधेनु समूह), सोनघाटी पुरातत्व परिषद के अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद सरावगी, प्रदीप कुमार सरावगी (कला निकेतन), रेडीमेड व्यवसायी संघ के संरक्षक ओमप्रकाश केजरीवाल, मैरिन इंजीनियर संजीव कुमार (प्रेसगली) आदि भी मदद करने वालो में आगे आए हैं।

पुलिस मुख्यालय में भी केेंद्र :
रोहतास जिला पुलिस के डेहरी-आन-सोन मुख्यालय में कोरोना महामारी के मामले में त्वरित सेवा सुलभ कराने के लिए डीएसपी (मुख्यालय) बुंदी मांझी के नेतृत्व में कोरोना समन्वय केन्द्र की स्थापना की गई है। रोहतास के एसपी सत्यवीर सिंह के अनुसार, यह केेंद्र जरूरी होने पर विधि-व्यवस्था वाली पुलिस सेवा से अलग चिकित्सा, भोजन आदि सुविधा भी मुहैया कराने में मदद करेगा। जिला पुलिस बल के अधिकारी-कर्मचारी मुख्यमंत्री आपदा कोष में अपनी ओर से दी जाने वाली सहायता भी इसी केेंद्र के माध्यम से दे सकेेंगे।

गैस किल्लत नहीं, उज्ज्वला सिलेंडर मुफ्त :
डेहरी-आन-सोन शहर की अग्रणी रसोई गैस आपूर्तिकर्ता एजेंसी मोहिनी इंटरप्राइजेज के निदेशक उदय शंकर और पार्टनर मीना शंकर की ओर से जानकारी दी गई है कि कोरोना संकट के बावजूद रसोई गैस की होम डिलिवरी पूर्ववत जारी है। किसी भी जाति-वर्ग की बीपीएल कार्डधारक निर्धन महिलाओं को उज्ज्वला योजना के अंतर्गत 14 किलो के तीन गैस सिलेंडर (अप्रैल, मई, जून) मुफ्त में मिलेंगे। गैस की कोई किल्लत नहीं है, इसलिए आम रसोई गैस उपभोक्ताओं को घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना को भी दुर्घटना और आपदा में शामिल कर दुर्घटना बीमा का लाभ इससे प्रभावित होने वाले आपूर्तिकर्ता वेंडर या स्टाफ को बीमा कवर देने की व्यवस्था कंपनी की ओर से की गई है।
(रिपोर्ट, तस्वीर : निशान्त राज, अर्जुन कुमार, अवधेश कुमार सिंह, नंदकुमार सिंह)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.