सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

द्रौपदी मुर्मू भारत की पहलीआदिवासी महिला राष्ट्रपति बनीं

Dropadi murmu

नई दिल्ली -कार्यालय प्रतिनिधि।  एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को भारी अंतर से हराकर जीत हासिल की है। देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचने वाली द्रौपदी मुर्मू देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति हैं और आदिवासी समाज से आने वाली पहली महिला राष्ट्रपति है।

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी को राष्ट्रपति पद पर उनकी ऐतिहासिक जीत की बधाई दी। श्री अमित शाह ने श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी को देश के सर्वोच्च पद पर चुने जाने के ऐतिहासिक क्षण पर आज नई दिल्ली में उनसे भेंट कर उन्हें शुभकामनाएं दीं।
अपने ट्वीट में श्री अमित शाह ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में उनकी प्रचंड विजय पर पूरा देश विशेषकर जनजातीय समाज उत्साह व हर्षोल्लास के साथ जश्न मना रहा है। एक अति सामान्य जनजातीय परिवार से आने वाली NDA प्रत्याशी श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी का भारत का राष्ट्रपति चुना जाना पूरे देश के लिए गौरव का पल है, उन्हें शुभकामनाएँ देता हूँ। यह विजय अन्त्योदय के संकल्प को चरितार्थ करने व जनजातीय समाज के सशक्तिकरण की दिशा में एक मील का पत्थर है।

एक ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि ‘द्रौपदी मुर्मू जी, जिन विषम परिस्थितियों से संघर्ष करते हुए आज देश के इस सर्वोच्च पद पर पहुँची है वो हमारे लोकतंत्र की अपार शक्ति को दर्शाता है.’ इतने संघर्षों के बाद भी उन्होंने जिस नि:स्वार्थ भाव से खुद को देश व समाज की सेवा में समर्पित किया वो सभी के लिए प्रेरणादायी है।
केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने यह भी कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में NDA के सहयोगियों, अन्य राजनीतिक दलों व निर्दलीय जनप्रतिनिधियों का जनजातीय गौरव श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी के पक्ष में मतदान करने पर आभार व्यक्त करता हूँ। मुझे विश्वास है कि भारत के 15वें राष्ट्रपति के रूप में मुर्मू जी का कार्यकाल देश को और गौरवान्वित करेगा।

भारतीय प्राणी सर्वेक्षण, गंगा समभूमि प्रादेशिक केंद्र पटना में शोधार्थी छात्रों ने शोध कार्य को जाना

photo-2

पटना -कार्यालय प्रतिनिधि। भारतीय प्राणी सर्वेक्षण, गंगा समभूमि प्रादेशिक केंद्र, भारत सरकार,पटना में जंतु विज्ञान विभाग, जय प्रकाश विश्वविद्यालय छपरा के 20 शोधार्थी छात्रों ने प्रो. डॉ. राणा विक्रम सिंह जंतु विज्ञान विभाग, विभागाध्यक्ष के निर्देशन में भ्रमण किया और शोध कार्य को जाना-समझा I
भारतीय प्राणी सर्वेक्षण, गंगा समभूमि प्रादेशिक केंद्र, पटना के वरीय अधिकारी एवं वैज्ञानिक ई, डॉ गोपाल शर्मा ने बताया कि इस भ्रमण का प्रयोजन शोध के लिए थीसिस का उचित विषय का चुनाव, मेथडोलोजी के साथ साथ राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शोध पत्र, पोपुलर आर्टिकल आदि कैसे लिखें पर विशेष चर्चा किया गया I इस क्रम में रिसर्च मेथोलोजी जिसमें टॉपिक का चुनाव, इसकी विधि, डाटा का विश्लेषण के साथ-साथ प्लाजियरिज्म से कैसे बचा जाय पर विस्तृत रूप से भी चर्चा किया I उन्होंने यह भी बताया कि थिसिसी लिखने के क्रम में, किन किन चीजों की आवश्यकता होती है तथा हम किस तरह से इसे प्राप्त कर सकते है I मौके पर संस्थान के वरीय वैज्ञानिक डॉ. एम. ई. हसन, वैज्ञानिक ई ने कीड़ों की विविधता के साथ साथ हमारे लिए उनकी उपयोगिता के वारे में विस्तृत रूप से चर्चा की I संस्थान के ही वैज्ञानिक मनीष चन्द्र पटेल ने आगत अतिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद किया गयाI
इस क्रम ने सभी शोध-छात्रों ने संस्थान के कई सम्भागों का भ्रमण किया जिसमें जंतु संग्रहालय में रखे गए विभिन्न प्रकार के जंतुओं का संग्रह देखा एवं उन जंतुओं की हमारे पारिस्थिकी तंत्र में क्या उपयोगिता है पर विशेष रूप से बताया गया I इसी क्रम में शोध छात्रों ने इन्सेक्टोरिया संग्रहालय का भ्रमण किया जिसमें बिहार एवं झारखंड के कई पारिस्थिकी तंत्रों के कीट पतंगों का कलेक्शन के साथ साथ इनके कलेक्शन की विधी तथा लम्बे दिनों तक इन जंतुओं को कैसे प्रेजर्व कर रखा जाय पर डेमो भी किया गया I


रिपोर्ट,तस्वीर : पीआईबी (पटना), इनपुट : निशांत राज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!