कुमार बिंदु के काव्य संकलन साझे का संसार का लोकार्पण

कविता संग्रह साझे का संसार l Poetry Collection Shared World Kumar Bindu

पटना / डेहरी -आन-सोन (रोहतास)-कार्यालय प्रतिनिधि। समन्वय के तत्वावधान में शुक्रवार को पटना के कालिदास रंगालय में कुमार बिंदु के कविता संग्रह साझे का संसार का विमोचन किया गया, जिसमें कविता पाठ और कृति चर्चा भी की गई।
मुख्य वक्ता प्रसिद्ध कवि अरुण कमल में कहा कि कुमार बिंदु ने लगातार लिखना जारी रखा, इसी का परिणाम है कि इनकी कविताएं निखर कर सामने आयी हैं। इनकी कविताएं पाठकों को उद्वेलित करती हैं। इनकी कविता सरलता से बड़ी बात कह जाती है। इसमें आप अंतर्ध्वनियों को सुन सकते हैं। जीवन के सवाल करती है कविता।
उन्होंने कहा कि जब कैफी आजमी पटना आये थे तो उन्हें डालमियानगर लेकर साथ गया था। वहां कुमार बिंदु ने बहुत ही भव्य आयोजन किया था।
साहित्यकार प्रेम कुमार मणि ने कहा कि प्रगतिशील लेखक संघ में हमसब साथ में सक्रिय थे। कुमार बिंदु शब्द, गीत और सपनों के समन्वय की बात करते हैं। जबकि शब्द और सपने हमारे बीच से गुम हो रहे हैं। हम जब युवा थे तो गीतों की खोज करते थे। आज न धर्म, न राजनीति मनुष्यों के पक्ष में है। सिर्फ कविता ही हमारे पक्ष में है।
प्रत्युष चंद्र मिश्र ने कहा कि बिंदु जी की कविताएं साझापन की अनूभूति देती हैं। इनकी कविताओं में केदार जी की तरह लय है। संग्रह की कविताओं से गुजरते हुए अहसास होता है कि वह आम भाषा में बड़ी बात कह जाते हैं।
प्रो. सुनीता गुप्ता ने कहा कि कुमार बिंदु की कविताओं में गंवई जीवन की गंध है जो हमें गांव-जवार तक खींच ले जाती है। हाशिए पर खड़े लोगों के दर्द को वे अपनी कविता में प्रतिबद्धता के साथ प्रस्तुत करते हैं। उनकी कविता में मानवता झलकती है, जो कविता को संपूर्ण बनाती है।
डीजी बीसैप एके अम्बेडकर ने कहा कि कुमार बिंदु से हमारा संबंध 1997 से ही है। हमसब इस कविता संग्रह के ड्राफ्ट को देखते थे। आज यह छपकर आ गयी है सो यह हमसब के लिए खुशी का क्षण है।

कुमार बिंदु l Kumar Bindu

कार्यक्रम का संचालन करते हुए जयप्रकाश ने कहा कि कुमार बिंदु की कविताओं से नई पीढ़ी अपरिचित है लेकिन इनकी कविताओं से आम जनजीवन झांकता प्रतीत होता है। ये चूंकि डेहरी ऑन सोन के रहने वाले हैं। पत्रकारिता और रंगमंच से जुड़े रहे हैं, इससे इनका काव्य और निखर कर सामने आता है।
कुमार बिंदु जी ने अपने संबोधन में कहा कि यह एकल काव्य संकलन मेरे लिए गौरव का विषय है। इसमें मेरे अनुभवों का एक साझा संसार है। उन्होंने काव्य संग्रह साझे का संसार से कई कविताएं भी सुनायी। वहीं, डा. अरुण ने कुमार बिंदु की अंग्रेजी में अनुदित ‘औरत की आजादी‘ का पाठ किया।
समन्वय की ओर से अतिथियों का स्वागत रविशंकर उपाध्याय ने किया। कार्यक्रम में हाल के दिनों में घायल हुए कवि आलोकधन्वा और मुकेश प्रत्युष के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की गई।
कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार, कवि कुमार अनिल, कहानीकार चितरंजन भारती, कवि कुमार मुकुल, श्री यादवेंद्र, कवयित्री सौम्या सुमन, अर्चना त्रिपाठी, वरिष्ठ नाट्यकर्मी राजेंद्र नरेंद्र, सुमंत शरण, संजय कुमार कुंदन, कवि विजय कुमार, डा. सुधीर कुमार, शत्रुघ्न प्रसाद सहित अनेक साहित्यानुरागी एवं बुद्धिजीवी उपस्थित थे।

(रिपोर्ट, तस्वीरः निशांत राज)

  • Related Posts

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    डेहरी-आन-सोन (रोहतास) कार्यालय प्रतिनिधि। शहर के पाली रोड स्थित महाराणा गली में एडवांस्ड टेक्नोलॉजी पर आधारित तृप्ति पैथ लैब (पैथोलॉजी) का उद्घाटन डिहरी बीडीओ पुरुषोत्तम त्रिवेदी एवं प्रतिष्ठित दंत चिकित्सक डा. नवीन नटराज द्वारा संयुक्त…

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    डेहरी-आन-सोन-विशेष संवाददाता। गोपाल नारायण विश्वविद्यालय जमुहार में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में विश्वविद्यालय के कला संकाय के संकाय…

    One thought on “कुमार बिंदु के काव्य संकलन साझे का संसार का लोकार्पण

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    You Missed

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद