आखिर कब बनेगा रोपवे ?

– रोहतासगढ़ किला तक पहुंचने के लिए गोविंदापुर से बननी है रोपवे, रोपवे के बनने से किले का होगा विकास

– पर्यटन बढ़ने से बढ़ेगा सरकार का काफी राजस्व

रोहतासगढ़ से उपेन्द्र कश्यप

भाजपा के सांसद छेदी पासवान को नहीं मालूम है कि रोहतासगढ़ किला पर पहुंचने के लिए प्रस्तावित रोपवे के निर्माण में आखिर विलंब क्यों हो रहा है? अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम के तत्वावधान में आयोजित 12 वें महोत्सव में जब वे पहुंचे तो उनसे इस संवाददाता ने सवाल किया कि रोपवे निर्माण में विलंब क्यों हो रहा है? उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है। उन्होंने कहा कि 12 करोड़ 65 लाख रुपए केंद्र से पास करवा दिया है। पैसा बिहार सरकार को भेजवा दिया है। अब यह समझ में नहीं आ रहा है कि काम क्यों नहीं हो रहा है, जबकि केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है। श्री पासवान ने कहा कि पहले तो महागठबंधन की सरकार थी तो बात समझ में आ रही थी, किन्तु अब तो भाजपा की ही सरकार है। अब क्यों नहीं बन रहा है, समझ में नहीं आ रहा है। वाइल्ड लाइफ सेंचुरी को लेकर भी समस्या है तो वे इस मुद्दे पर उप मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार से मिले हैं।

पर्यटन के लिए महत्वपूर्ण रोहतासगढ़

रोहतासगढ़ किला जाने के लिए गोविंदापुर से रोपवे का निर्माण होना है। यदि रोपवे का निर्माण होता है तो बिहार सरकार के लिए राजस्व का एक स्थायी स्थान उपलब्ध होगा। लोगों में यहां आने के लिए उत्साह बढेंगा। आज साधन के अभाव के कारण पर्यटक काफी कम संख्या में आते हैं। रोपवे 28 एकड़ क्षेत्रफल में फैला रोहतास किला तक पर्यटन और इतिहास में रुचि रखने वालों के लिए आना आसान होता। लोग ऐतिहासिक वैभव को देख पाते। यह दुर्ग अभेद्य और अजेय रहा है। इस कारण इसका ऐतिहासिक महत्व है। बिहार में तो ऐसा कोई किला है ही नहीं, देश में भी इतना बड़ा किला परिसर कुछ ही संख्या में हैं।

 

समस्या वाइल्ड लाइफ सेंचुरी होने की वजह से 

सांसद छेदी पासवान ने कहा कि रोहतास से तारडीह होते हुए धनसा तक सड़क किला पर अगली बार आने से पहले तक बन जानी चाहिए। कहा कि अकबरपुर से अधौरा तक सड़क बनाने का प्रयास है। वाइल्ड लाइफ सेंचुरी होने की वजह से समस्या है। पीसीसी नहीं बन सकती तो कम से कम मोरंग की सड़क बन जाये। अब इसमें कौन सा नया कानून है, क्या बाधा है, मैं नहीं जानता।

  • Related Posts

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    पटना -कार्यालय प्रतिनिधि। भारत सरकार के अधीन कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा बुधवार को वैशाली जिले के भगवानपुर प्रखंड अंतर्गत पट्टीबंधु राय ग्राम…

    सड़क दुर्घटना में दुकानदार की मौत, सड़क जाम

    डेहरी-आन-सोन (रोहतास) कार्यालय प्रतिनिधि।  इंद्रपुरी थाना क्षेत्र के लक्षमण बिगहा मोड़ के समीप सोमवार की देर शाम एनएच 119 पर सड़क दुर्घटना में एक पंचर बनाने वाले दुकानदार की मौत…

    One thought on “आखिर कब बनेगा रोपवे ?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    You Missed

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    पत्रकारिता एवम जनसंचार विभाग द्वारा विश्व जनसंपर्क दिवस पर वेबिनार का आयोजन

    मुकेश सहनी के पिता की हत्या से शोक की लहर

    मुकेश सहनी के पिता की हत्या से शोक की लहर

    सड़क दुर्घटना में दुकानदार की मौत, सड़क जाम

    शारदा कोचिंग संस्थान के विद्यार्थियों ने किया शैक्षणिक भ्रमण

    शारदा कोचिंग संस्थान के विद्यार्थियों ने किया शैक्षणिक भ्रमण

    नारायण कृषि विज्ञान संस्थान का पांचवां स्थापना दिवस संपन्न

    नारायण कृषि विज्ञान संस्थान का पांचवां स्थापना दिवस संपन्न