कोरोना की पुष्टि के बाद मुहल्ला सील / एनएमसीएच में खास तैयारी / संतपाल स्कूल का एजुकेशन पोर्टल / इंडक्शन क्लास से ग्रामीण विद्यार्थी भी जुड़े

मरीज के घर के एक किलोमीटर के दायरे में बरदारी मुहल्ला सील, पुलिस का पहरा

डेहरी-आन-सोन/सासाराम (रोहतास)-सोनमाटी टीम। विश्वव्यापी महामारी कोरोना को लेकर रोहतास जिला में जो सुखद स्थिति समझी जा रही थी, अब चिन्ताजनक हो गई है। सासाराम के बारादरी मुहल्ले में एक महिला मरीज की पुष्टि कोरोना से ग्रस्त होने की हो चुकी है और उसे इलाज के लिए नालंदा मेडिकल कालेज, पटना भेज दिया गया है। इस जानकारी के बाद महिला के घर से करीब एक किलोमीटर के दायरे में मुहल्ले को सील कर सेनेटाइज किया गया है और पुलिस का पहरा बैठाया गया है। महिला का इलाज करने वाले निजी क्लिनिक के चिकित्सक और चिकित्साकर्मियों को क्वारंटाइन (पृथकवास) में रखा गया है। रोहतास जिला स्वास्थ्य समिति के अनुसार 21 अप्रैल तक जिला के 615 संदिग्धों का रक्त नमूना जांच के लिए पटना भेजा गया, जिनमें 573 की जांच हुई और एक की रिपोर्ट पाजेटिव पाई गई। 42 रिपोर्ट आने की प्रतीक्षा है। सासाराम की कोराना मरीज शहर के वार्ड-39 की है, जिसका परिवार गोला बाजार में आलू-प्याज के थोक कारोबारी है। महिला की तबीयत कुछ हफ्ते से खराब थी। सांस लेने में तकलीफ होने पर वह 19 अप्रैल को जमुहार स्थित नारायण मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल (एनएमसीएच) पहुंची तो उसका रक्त नमूना पटना भेजा गया।
(रिपोर्ट, तस्वीर : निशांत राज)

एनएमसीएच में खास चिकत्सकीय मुस्तैदी : त्रिविक्रमनारायण

एनएमसीएच के प्रबंध निदेशक त्रिविक्रमनारायण सिंह

जमुहार, डिहरी-आन-सोन से विशेष संवाददाता के अनुसार, गोपालनारायण सिंह विश्वविद्यालय (जीएनएसयू) के अंतर्गत संचालित नारायण मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल (एनएमसीएच) में संदिग्ध कोरोना मरीजों के मद्देनजर खास इंतजाम किए जाने के साथ अब अतिरिक्त सतर्कता भी बरती जा रही है। यहां इलाज के लिए आई महिला के रक्त नमूना की जांच में कोरोना पाजिटिव होने की पुष्टि के बाद खून का नमूना लेने वाले चिकित्सक और चिकित्सा दल को भी अंतराल से क्वारंटाइन में रखे जाने का प्रबंध किया गया है। समूचे अस्पताल परिसर की एनएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक डा. प्रभात कुमार के नेतृत्व में नियमित सघन निरीक्षण किया जा रहा है। अस्पताल परिसर में चिकित्सा इंतजाम को देखने और एहतियात के लिए जिला स्वास्थ्य समिति के चिकित्सा प्रतिनिधि और दंडाधिकारी की तैनाती की गई है। एनएमसीएच के प्रबंध निदेशक त्रिविक्रमनारायण सिंह ने बताया कि कोरोना मरीजों के मद्देनजर क्वारंटाइन वार्ड, बिस्तर, चिकित्सक दल, परीक्षण किट आदि के साथ कोरोना से अलग मरीजों के लिए भी 24 घंटा आपात चिकित्सा की व्यवस्था है। पूरे अस्पताल परिसर को नियमित सैनिटाइज किया जा रहा है। महामारी से निपटने के लिए यहां के चिकित्सक, मेडिकल स्टाफ और प्रबंधन मुस्तैद हैं।
(रिपोर्ट, तस्वीर : भूपेन्द्रनारायण सिंह, पीआरओ, जीएनएसयू)

संतपाल स्कूल में लांच हुआ रोहतास का पहला एजुकेशन वेबपोर्टल : रोहित वर्मा

संतपाल स्कूल के प्रबंधक रोहित वर्मा

सासाराम (रोहतास)-सोनमाटी संवाददाता। दक्षिण बिहार के टाप-टेन विद्यालयों में शामिल रोहतास जिला के सबसे बड़े विद्यालय संतपाल सीनियर सेकेेंडरी स्कूल ने अपना एजुकेशन वेबपोर्टल लांच किया है। विद्यालय के प्रबंधक रोहित वर्मा ने बताया कि स्कूल वेबपोर्टल पर शैक्षणिक सत्र 2019-20 का परीक्षा परिणाम घोषित हो चुका है। वैश्विक महामारी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग पालन करने के मद्देनजर इस सेल्फ सर्विस पोर्टल पर विद्यालय से संबंधित छह सुविधाएं माई प्रोफाइल, न्यूज एंड सर्कुलर, फीस, अटेंडेंस, एक्जामिनेशन, होमवर्क असाइनमेंट नाम से उपलब्ध हैं। इसके जरिये विद्यार्थियों का विवरण दर्ज होगा। विद्यालय प्रबंधन, वर्ग शिक्षक-शिक्षिका द्वारा छात्र-छात्राओं को भेजी गईं सूचनाएं होंगी। विद्यार्थी-अभिभावक और विद्यालय द्वारा सूचनाओं का आदान-प्रदान होगा। अभिभावक अपने बच्चे की एक वर्ष कीफीस की स्थिति देख सकते हैं और मासिक शुल्क का भुगतान इंटरनेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, गूगल-पे, पेटीएम आदि एप के जरिये कर सकते हैं। जमा की गई शुल्क की रसीद डाउनलोड की जा सकती है। लाग-इन कर विद्यार्थी की उपस्थिति, परीक्षा सूचना, परीक्षा परिणाम, अंकपत्र देखे जा सकते हंै। स्कूल के अध्यक्ष डा. एसपी वर्मा ने सेल्फ सर्विस पोर्टल का उद्घाटन इसके क्लाउड सर्वर का बटन दबाकर किया। डा. एसपी वर्मा ने बताया है कि संतपाल रोहतास जिला का पहला विद्यालय है, जिसने विद्यार्थियों-अभिभावकों के लिए वेबपोर्टल लांच किया है। स्कूल द्वारा क्वालिटी एजुकेशन की दिशा में दृढ़ता से बढ़ते हुए 11 अप्रैल से आनलाइन क्लास का संचालन हो रहा है। स्कूल परिसर में दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों के लिए अत्याधुनिक संसाधनयुक्त हाई सिक्योरिटी हास्टल सुविधा है। विद्यालय के वाहनों में भी सीसीटीवी कैमरा लगा है।
(रिपोर्ट, तस्वीर : अर्जुन कुमार, मीडिया प्रभारी)

9वीं से 12वीं तक के लिए है आनलाइन क्लास : शिशिर कुमार

दाउदनगर (औरंगाबाद)-विशेष संवाददाता। कोरोना वायरस के भय से पूरी दुनिया कटी हुई है और इस विषम परिस्थिति में विद्यार्थियों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। दाउदनगर जैसे ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थी काफी परेशान हैं कि उनका पाठ्यक्रम पीछे हो चुका है, पाठ्य पुस्तकेें और पठन सामग्री उपलब्ध नहींहैं। शिक्षकों से शैक्षणिक आदान-प्रदान के अभाव में उनकी निजी पढ़ाई पिछड़ चुकी है। ऐसे माहौल में पटना के शिक्षण संस्थान इन्डक्शन क्लास एक रोशनी के रूप में सामने आई है कि वह अपने नेटवर्क से जुड़े विद्यार्थियों को आनलाइन पढ़ाने का कार्य कर रही है। खास बात यह है कि संस्था उन विद्यार्थियों को भी शिक्षा सामग्री उपलब्ध करा रही है, जो उनके यहां नामांकित नहींहैं। शिशिर कुमार के नेतृत्व में ओमप्रकाश कुमार, चितरंजन कुमार, अभिषेक कुमार, अनुरागश्री, मयंक वर्मा विद्यार्थियों के लिए अपने-अपने विषय क्षेत्र की आनलाइन क्लास चला रहे हैं। शिशिर कुमार के अनुसार, 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं के विद्यार्थी आनलाइन क्लास में अपने-अपने विषय से संबंधित पढ़ाई कर सकते हैं और संबंधित शंका का समाधान, प्रश्नों का उत्तर पा सकते हैं।
(रिपोर्ट, तस्वीर : उपेन्द्र कश्यप)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.