दूर पहाड़ तक बिना अतिरिक्त शुल्क पहुंच रही रसोई गैस/

मोहिनी : पर्वतीय इलाके में कोरोना योद्धा का कार्य

डेहरी-आन-सोन (रोहतास)-कार्यालय प्रतिनिधि। तेल कंपनियों के उत्पाद-निर्माण के आपूर्ति केेंद्र से दूरी के बढऩे के कारण कीमत बढ़ जाती हैं, मगरइंडियन आयल की रसोई गैस की वितरक एजेंसी मोहिनी इंटरप्राइजेज ने सौ किलोमीटर दूर तक चुटिया, नौहट्टा के कैमूर पठार की तलहटी तक गैस सिलेंडर पहुंचाने के बावजूद हैंडलिंग (ढुलाई चार्ज) नहींले रही है। कोविड-19 महामारी के समय में बेशक मोहिनी इंटरप्राइजेज सही अर्थ में कोरोना योद्धा की भूमिका में है। इसके साथ ही रसोई गैस वितरक यह अग्रणी एजेंसी कोरोना काल के बावजूद स्मोकलेस विलेज (धुंआरहित गांव) बनाने के राष्ट्रीय दायित्व के प्रति कटिबद्ध है। यह पूरे बिहार की रसोई गैस वितरक एजेंसियों में एकमात्र पहल है। आयल कंपनी ने रसोई गैस के 14.2 किलो सिलेंडर की अगस्त माह की कीमत 693 रुपये निर्धारित कर रखी है। हाकर द्वारा इससे ज्यादा कीमत मांगने पर उपभोक्ता शिकायत कर सकते हैं, जिसके लिए मोहिनी इंटरप्राइजेज ने अपने कार्यालय और ढुलाई वाहन पर चार मोबाइल फोन नंबर प्रचारित कर रखे हैं।

पहाड़ी गांवों में धुंआमुक्त स्वस्थ जिंदगी बना रही उज्जवला :

मोहिनी इंटरप्राइजेज के संचालक निदेशक उदय शंकर ने सोनमाटीडाटकाम को बताया कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना सभी जाति और वर्ग के बीपीएल कार्डधारक परिवार की महिलाओं के लिए है, जिसका उद्देश्य वंचित परिवार की महिलाओं की जिंदगी को धुंआमुक्त बनाना है। लकड़ी के चूल्हे के बदले रसोई गैस का उपयोग भोजन के मनोनुकूल स्वाद और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद तो है ही, इससे श्रम-समय की बचत भी होती है, जिसका उपयोग श्रमिक महिलाएं अन्य कार्य के लिए कर सकती हैं। उदय शंकर के अनुसार, बेशक इसके पीछे व्यावसायिक विस्तार की बात है, मगर वास्तव में सोच यह भी है कि आवागमन के साधन की किल्लत के कारण पर्वतीय इलाके के गरीब, वंचित, आदिवासी परिवार की महिलाएं कोरोना काल में महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का लाभ अपने घर के दरवाजे के करीब उठा सकेें। दूर ग्रामीण, पहाड़ी इलाके में रसोई गैस पहुंचाकर हैंडलिंग चार्ज के नाम पर कोई छुपी कीमत नहीं ली जा रही है।

किसी के लिए भी एफटीएल : उदय शंकर

उदय शंकर ने बताया कि फ्री ट्रेड एलपीजी (एफटीएल) के तहत 05 किलो सिलेंडर में रसोई गैस मोहिनी इंटरप्राइजेज के कार्यालय परिसर में 24 घंटा, सातों दिन उपलब्ध कराया जा रहा है। शुद्ध वजन और सुरक्षित उपयोग की वजह से विद्यार्थियों, श्रमिकों, खानाबदोशों, ठेला-खोमचा वालों आदि के लिए यह अधिक उपयोगी है। इस गैस सिलेंडर को कोई भी, कभी भी बिना रसोई गैस कनेक्शन कार्डधारक भी खरीद सकता है।

रिपोर्ट, तस्वीर : निशांत राज, कार्यालय प्रतिनिधि

  • Related Posts

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    पटना -कार्यालय प्रतिनिधि। भारत सरकार के अधीन कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा बुधवार को वैशाली जिले के भगवानपुर प्रखंड अंतर्गत पट्टीबंधु राय ग्राम…

    पत्रकारिता एवम जनसंचार विभाग द्वारा विश्व जनसंपर्क दिवस पर वेबिनार का आयोजन

    डेहरी-आन-सोन  (रोहतास) विशेष संवाददाता। विश्व जनसंपर्क दिवस के अवसर पर पत्रकारिता एवम जनसंचार विभाग, गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय, जमुहार द्वारा वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार में जनसंपर्क क्षेत्र के…

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    You Missed

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा वैशाली जिले में दो दिवसीय आईपीएम ओरियंटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

    पत्रकारिता एवम जनसंचार विभाग द्वारा विश्व जनसंपर्क दिवस पर वेबिनार का आयोजन

    मुकेश सहनी के पिता की हत्या से शोक की लहर

    मुकेश सहनी के पिता की हत्या से शोक की लहर

    सड़क दुर्घटना में दुकानदार की मौत, सड़क जाम

    शारदा कोचिंग संस्थान के विद्यार्थियों ने किया शैक्षणिक भ्रमण

    शारदा कोचिंग संस्थान के विद्यार्थियों ने किया शैक्षणिक भ्रमण

    नारायण कृषि विज्ञान संस्थान का पांचवां स्थापना दिवस संपन्न

    नारायण कृषि विज्ञान संस्थान का पांचवां स्थापना दिवस संपन्न