सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है   Click to listen highlighted text! सोनमाटी के न्यूज पोर्टल पर आपका स्वागत है

पैसा लगाने से पहले

हरेक स्कीम की अलग-अलग खासियत हैं। इसलिए पैसा लगाने से पहले यह विचार करना चाहिए कि किस जरूरत के लिए निवेश किया जा रहा है?


1.  पब्लिक प्रविडेंट फंड
ब्याज दर 7.8 फीसदी। अवधि : पहली बार निवेश करने से 15 वर्ष तक। यह स्कीम उनके लिए है जो निवेश में जोखिम नहीं उठाना चाहते। टैक्स फ्री होने की वजह से यह फिक्स्ड डिपॉजिट से बेहतर है। पूरी तरह टैक्स योग्य होने की वजह से फिक्स्ड डिपॉजिट 7.5 प्रतिशत ब्याज सबसे बड़े टैक्स ब्रैकेट में आने पर घटकर 5.25 प्रतिशत पर पहुंच जाता है। एक व्यक्ति एक साल में 1.5 लाख रुपये से ज्यादा निवेश नहीं कर सकता।
2. सुकन्या समृद्धि योजना
ब्याज दर : 8.3 फीसदी। अवधि : 14 वर्ष। 10 साल से कम उम्र की बेटी है तो सुकन्या समृद्धि योजना पीपीएफ से बेहतर विकल्प है। इसमें पीपीएफ के मुकाबले ज्यादा ब्याज मिलता है। पीपीएफ की तरह ही यह भी टैक्स फ्री है। इसमें साल में 1.5 लाख रुपये से ज्यादा निवेश नहीं कर सकते। इसका खाता किसी पोस्ट ऑफिस या निर्धारित बैंक में खुलवा सकते हैं। माता-पिता दो बेटियों के लिए खाता खुलवा सकते हैं, लेकिन दोनों खातों में 1.5 लाख रुपये से ज्यादा का सालाना निवेश नहीं किया जा सकता।
सुकन्या स्कीम लंबी अवधि के निवेश के लिहाज से सर्वोत्तम नहीं है। शेयर आधारित विकल्पों से ज्यादा रिटर्न मिलते हैं।अच्छी बात यह है कि सुकन्या समृद्धि स्कीम से बेटी की शिक्षा और उसके विवाह में मदद मिल जाती है।
3. नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट
ब्याज दर : 7.8 फीसदी। अवधि : 5 साल। एनएससी में निवेश के लिए कोई सीमा नहीं है। ब्याज टक्स के दायरे में आता है। उच्चतम 30 फीसदी ब्रैकेट में रिटर्न 5.38 फीसदी है, जिसकी तुलना बैंक फिक्स डिपॉजिट के रिटर्न से की जा सकती है। एनएससी उस समय पसंद से बाहर हो गई थी, जब कुछ साल पहले बैंक दरें 9.9 फीसदी तक थीं, जो अब सामान्य निवेशकों के लिए जमा दर 7.7 फीसदी है। इसलिए एनएससी आकर्षक है।
4. सीनियर सिटिजन सेविंग
ब्याज दर : 8.3 फीसदी। अवधि : 5 साल। पोस्ट ऑफिस की बढिय़ा स्कीम। इस स्कीम की अवधि 5 साल है, जो बाद में 3 साल के लिए बढ़ाई जा सकती है। निवेश के लिए प्रति व्यक्ति 15 लाख तक की सीमा है। यह स्कीम सिर्फ उनके लिए है जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है। जिन लोगों ने वीआरएस लिया है और वे कोई और काम भी नहीं कर रहे हैं, ऐसे लोगों के लिए उम्र में 2 साल की छूट दी गई है। सेना के लोगों के लिए कोई उम्र सीमा नहीं है। यह रेग्युलर इनकम और अच्छे रिटर्न की गारंटी देता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Click to listen highlighted text!