कुमार बिंदु की दो कविताएं


कुमार बिंदु की दो कविताएं : एक मेरी माई और दूसरी कविता उर्वशी

1. मेरी माई

मेरी अस्सी वर्षीय माई भी बड़ी अजीब है !

सावन के महीने में

पुख पुनर्वसु नक्षत्र में

जब खेतों में लगी धान की रोपनी

सुदिन भी ऐसा कि किसी दूर देश से आकर

आकाश में मंडराने लगे बादल

हरहर- हरहर

झरझर- झरझर

पानी बरसाने लगे काले- काले बादल

तब माई के गदगद हृदय से निकला यह उद्गार –

वाह भगवान वाह !

और वह आसमान की ओर अपने दोनों हाथ उठाकर

भगवान के प्रति आभार जताने लगी

पता नहीं क्या- क्या मनौती भी भखने लगी

वहीं, चैत के महीने में

जब मेरे खेतों में पक चुकी थी गेंहू की फसल

कुछ खेतिहरों के खलिहानों में भी आ चुकी थी फसल

कोई कटनी, तो कोई दवनी की तैयारी में जुटा था खेतिहर

कोई खेत से खलिहान तक बोझा ढोने में जुटा था खेतिहर

तभी किसी दूर देश से आए थे कुछ आवारा बादल

झमाझम- झमाझम पानी बरसाने लगे थे आवारा बादल

तब मेरी इसी माई के तन- मन में लग गई थी आग

क्षोभ से, रोष से उसका चेहरा हो गया था लाल

वो गुस्से में आकाश की ओर ताकी थी

फिर बिफरकर तल्ख़ स्वर में बोली थी

‘ दुसमनवां के अबहीं बरसे के रहे ‘

और दुश्मनी कर रहे भगवान के विरुद्ध

असमय पानी बरसा रहे ईश्वर के विरुद्ध

वह दनादन अपनी कोठरी से निकालकर

खुले आंगन में फेंकने लगी थी सारा हर्बा हथियार

हसुआ, खुरपी, टांगी, फरसा, गंड़ासा और कुदार

सचमुच कितनी अजीब है मेरी अस्सी वर्षीय माई !

अन्याय पर भगवान से भी भिड़ जाती है मेरी खेतिहर माई !

2. उर्वशी

आज मेरे गांव के एक परती खेत में गड़ा है सामियाना

पंचलाइटों की जगमग रोशनी में

दमक रहा है, चहक रहा है

बावन चोप का सामियाना

और सामियाने में नाच रही है

सजी- संवरी एक सुंदर युवती

तबले की ताल पर

ढोलक की थाप पर

हारमोनियम के सुर पर लचक रही है उसकी कमनीय काया

सामियाने के एक छोर से दूसरे छोर तक

गूंज रहा है उसका संगीतमय स्वर

तबले की ताल पर

ढोलक की थाप पर

हारमोनियम के सुर से सुर मिलाकर गा रही है

वो सिनेमा का गीत

दुनिया ने सुन ली है छुपकर अपनी प्रेम कहानी

हो राजा जानी

होय होय राजा जानी

मर गई मिट गई शरम के मारे हो गई पानी पानी

हो राजा जानी

होय होय राजा जानी…..

सामियाने में बैठे हर बराती का तन

दूल्हा, सहबाला और समधी का भी मन

गीत के लय पर

गीत के धुन पर

गीत के बोल पर

मस्ती में झूम रहा है

नाच रही पतुरिया के अंग- संग डोल रहा है

ओ पुरुरवा !

देखो आज की रात धरा पर

उतर आया है स्वर्ग

देखो आज की रात धरा पर

उतर आए हैं सब देवगण

देखो आज की रात धरा पर

देवराज इंद्र का सजा है दरबार

और इंद्र- सभा में नाच रही है स्वर्ग की श्रेष्ठ अप्सरा उर्वशी

देवगण हर्षित हैं

ऋषिगण मन मुदित हैं

धन्य धन्य हो रहा सबका जीवन

धन्य धन्य हो रहा धरा का आंगन

ओ पुरुरवा !

तुम कहां हो पुरुरवा

देखो तुम्हारी प्रेयसी

स्वर्ग की अपूर्व सुंदरी उर्वशी

आज इस सामियाने में नाच रही है

अपना अनमोल जोबन लुटा रही है

चंद रुपयों के लिए

चंद सिक्कों के लिए

ओ प्रेमी पुरुरवा

तुम कहां हो, तुम कहां हो पुरुरवा ?

संपर्क: डेहरी ऑन सोन, रोहतास, बिहार 09939388474

  • Related Posts

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर एक दिन हमने प्रेम के प्रतीकएक गुलमोहर का बिरवा रोपाज्यों- ज्यों बढ़ा बिरवात्यों- त्यों परवान चढ़ा हमारा प्रेमज्यों- ज्यों खिला गुलमोहरत्यों- त्यों खिली हमारी…

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    डेहरी-आन-सोन (रोहतास) कार्यालय प्रतिनिधि। शहर के पाली रोड स्थित महाराणा गली में एडवांस्ड टेक्नोलॉजी पर आधारित तृप्ति पैथ लैब (पैथोलॉजी) का उद्घाटन डिहरी बीडीओ पुरुषोत्तम त्रिवेदी एवं प्रतिष्ठित दंत चिकित्सक डा. नवीन नटराज द्वारा संयुक्त…

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    You Missed

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    स्मिता गुप्ता की कविता : गुलमोहर

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    आधुनिक मशीन से युक्त तृप्ति पैथ लैब का उद्घाटन, यहां हर तरह की होगी जांच

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    जीएनएसयू में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में फेयरवेल समारोह का आयोजन

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    साहित्यकारों में भी दिख रहा है कला एवं संगीत के प्रति समर्पण : सिद्धेश्वर

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    बाडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में मिस्टर बिहार क्लासिक बाडी बिल्डिंग का खिताब एयात को मिला

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद

    प्रो0 पी. सी. महालनोविस को देश के सांख्यिकी के क्षेत्र में दिए गए योगदानों को लेकर किया गया याद