सुनो मैं समय हूं : एक साल में दूसरी बार री-प्रिंट हुई किताब / कृष्ण किसलय की पटना से बिहार की राजनीतिक रिपोर्ट चाणक्य मंत्र में

बहुभाषी प्रकाशन संस्थान नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया ने किया है कृष्ण किसलय की पुस्तक सुनो मैं समय हूं का प्रकाशन

Read more

सवाल : मारवाड़ी समाज बताए, कौन है पवन झुनझुनवाला और राष्ट्रीय वसंत महोत्सव क्या निजी आयोजन है?

डेहरी-आन-सोन (रोहतास, बिहार )-कार्यालय प्रतिनिधि। मारवाड़ की धरती पर फली-फूली अति प्राचीन मोहनजोदजडो-हड़प्पा की समकालीन खेतड़ी-किंधाना की तांबे की खानों

Read more

मुुद्दा / आयुष्मान भारत : गरीबों तक बेहतर पहुंच की दरकार

देहरादून-दिल्ली कार्यालय से प्रकाशित-प्रसारित समय-सत्ता-संघर्ष की पाक्षिक पत्रिका चाणक्य मंत्र में बिहार से विशेष रिपोर्ट –0 मुुद्दा 0– आयुष्मान भारत

Read more

अंतरराष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव : सृजन के विस्फोट-विस्तार का नया अनुभव संसार / बिहार राज्य सीमा पार राष्ट्रीय स्तर तक हुई फिल्मोत्सव की गूंज

अंतरराष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव : सृजन के विस्फोट-विस्तार का नया अनुभव संसार–0 टिप्पणी विशेष 0– – कृष्ण किसलय (समूह संपादक, सोनमाटी

Read more

डेहरी नगर परिषद : अथ मच्छर कथा, इति नहीं नगर व्यथा / एनटीपीसी : दूर करेगा बिजली संकट

अथ मच्छर कथा, इति नहीं नगर व्यथा (समाचार विश्लेषण : कृष्ण किसलय) बात 56 साल पहले मध्य प्रदेश की है,

Read more

खोज की धुन : जहां आदमी ने सीखी सभ्यता की सबसे पहली तमीज / कृष्ण किसलय, अवधेशकुमार सिंह ने बिहार और अंगद किशोर, तापसकुमार डे ने झारखंड की सोनघाटी में खोजे महत्वपूर्ण पुरा-स्थल

सोनघाटी पुरातत्व परिषद, बिहार इकाई ने छानी 1999 में अर्जुन बिगहा से 2019 में रिऊर तक की खाक। सोन नद

Read more

अयोध्या विवाद : सुप्रीम कोर्ट में पैरवी के एक माइलस्टोन आचार्य किशोर कुणाल

देहरादून, दिल्ली कार्यालय से प्रकाशित बहुरंगी पाक्षिक ‘चाणक्य मंत्रÓ में पटना से कृष्ण किसलय की विशेष रिपोर्ट विवाद हद से

Read more

सोनघाटी : सूर्यपूजा की आदिभूमि, विश्व का सबसे व्यापक लोकपर्व छठ संपन्न

अंतरराष्ट्रीय संस्कृति-सम्मिश्रण के हजारों साल पुराने चिह्न लेकर दो हजार साल पहले बिहार लौटी सूर्यप्रतिमा पूजाशैली डेहरी-आन-सोन (बिहार)- सोनमाटीडाटकाम टीम।

Read more

आवाज गूंज उठी ! (आंचलिक रंगमंच का जासूसी नाटक) : नाटककार कृष्ण किसलय

  राष्ट्रीय पृष्ठभूमि पर आधारित 20वींसदी के आठवें-नौवें दशक के आंचलिक रंगमंच का मातृभूमि के लिए बलिदान और धर्म, राजनीति के

Read more